समर्थक

रविवार, 29 मार्च 2020

महामारी में महातमाशा





पहला दिन : बंदी से पहले और बंदी वाले पहले दिन लोगों ने दुकानों पर                         मेला लगाया
दूसरा दिन : दूसरा दिन ,पुलिस ने उठक बैठक करवाते मुर्गा बनाते ,लाठी                     भाँजते करतब दिखाया
तीसरा दिन : मीडिया ने अचानक ही लोगों को भूखे मरते तड़पते बिलखते                     वाला तमाशा दिखाया
चौथा दिन :   आखिरकार जनता ने भी सब कुछ भूल भाल कर सड़कों पर                     आकर मजमा लगाया |

लब्बो लुआब ,ये देश ,प्रशासन ,व्यवस्था ,सरकारें ,स्वयं सेवक और सबसे अधिक आम लोग अभी तक भी किसी भी कैसी भी आपदा से निपटने की तैयारी ,बचाव आदि तो दूर अभी तक किसी को भी आपदा के समय किये जाने वाला व्यवहार और सचेतता का भी पता नहीं है |

पश्चिम के देश जो भौगोलिक परिवेश के कारण भारत से कहीं अधिक भयंकर प्राकृतिक आपदाएं झेलते हैं बार बार भुगतते हैं ,मगर हर बार सबक सीख कर अगली आपदा के लिए खुद को और पूरे समाज को भी तैयार करते हैं | बावजूद इसके कि उन  देशों में तकनीक और संसाधन की प्रचुर सुलभता के बावजूद वे कभी लापरवाह या उपेक्षित नहीं होते | इसके ठीक उलट भारतीय अवाम ऐसे समय भी अपने उद्दंड स्वभाव और व्यग्रता तथा अशिक्षा के कारण ,प्रशासन व सरकार द्वारा की गयी थोड़ी बहुत की गई तैयारियों को भी पलीता लगा देते हैं |

वर्तमान में सिर्फ दो ही सूरतों में इस महामारी के बड़े प्रकोप से बचने की संभावना है | पहली ये कि सैकड़ों लाखों के इस समूह में मरीज़ और पीड़ित की संख्या नगण्य हो या बहुत ज्यादा कम हो | आगे जाकर समाज में घुलमिल कर उसे और अधिक विकराल रूप में पहुंचाने से पहले ही इनकी जांच व् पहचान सुनिश्चित करना |

दूसरी ये कि फिलहाल मौसम में जो अनिश्चितता बनी हुई है वो स्थिर होकर ,सामन्यतया इस ऋतू के औसत तापमान और उससे अधिक तक जितनी जल्दी से जल्दी पहुँच सके तो इसके प्रसार की रफ़्तार और ज़द में थोड़ी मंथरता आने की संभावना है |

ये देश हमेशा से भागवान भरोसे ही छोड़ा जाता रहा है ,भगवान भरोसे ही चलता रहा है और भविष्य में भी इस स्थिति में कोई बहुत बड़ा फर्क आएगा ऐसा लगता नहीं है | आने वाले सात दिनों में स्थिति बिल्कुल स्पष्ट हो जाएगी कि हम खराब से उबर कर सब ठीक होने की हालात में जाएंगे या इससे भी बदतर हालातों में पहुंचेंगे |





रविवार, 1 मार्च 2020

ब्लॉगरों के अधूरे सपनों की कसक -किताब के बहाने ब्लॉग बैठक (ब्लॉग बैठक रिपोर्ट )





मुद्दतों बाद ही सही ब्लॉगर किसी न किसी बहाने अब आपस में रूबरू होने का सिलसिला शुरू कर चुके हैं | अभी कुछ दिनों पूर्व ही हिंदी ब्लॉगजगत के सुपर स्टार समीर लाल समीर उर्फ़ उड़नतश्तरी अमेरिका से जब अपनी सर ज़मीन पर आए तो सबसे पहले आदतन ब्लॉगर मित्रों के बीच ही नुमायेदार हुए | ब्लॉगिंग की धीमी होती रफ़्तार और ब्लॉगर द्वारा ब्लॉग लेखन के प्रति आया उपेक्षा का भाव अदि को लेकर समय समय पुराने नए ब्लॉगर कई तरह के नए नए विचार और प्रयासों पर काम करते रहते हैं | 

पिछले दिनों ऐसी ही एक मुहिम ​"ब्लॉगिंग की ओर वापस चलें " बड़े जोर शोर से शुरू किया गया था ताकि बिलकुल शून्यावस्था को पहुंचती जा रही इस विधा को यूं दम तोड़ते हुए नहीं छोड़ा जाना चाहिए | पिछले अन्य प्रयासों की तरह ये प्रयास भी बहुत अधिक रंग नहीं ला सका हालांकि इसने मुझ सहित बहुत सारे ब्लॉगर को दोबारा अपने अपने ब्लॉग की सुध लेने को प्रेरित तो किया ही | 

इस बीच रेखा श्रीवास्तव जी ने बहुत सारे ब्लॉगर से उनके जीवन में ऐसे सपने जिन्हें पूरा न कर पाने की कसक उनके मन में रह गयी हो उसे लिपिबद्ध करके प्रेषित करने का आग्रह किया | सबने उसमें अपनी यादों को अपनी लेखनी में पिरो कर उनके हवाले कर दिया जिसे रेखा जी के सम्पादन में एक खूबसूरत किताब की शक्ल दिया गया जो अब पाठकों के बीच पहंच चुकी है | 

अब चूँकि मामला ब्लॉगर का था ब्लॉगर के सपनों का था इसलिए सभी  ब्लॉगर मित्रों का एक साथ होना स्वाभाविक था | आज भाई राजीव तनेजा जी द्वारा निर्मित और उपलब्ध , साहित्य ,ब्लॉग्गिंग ,लेखन ,पठन को समर्पित स्थान पर जुटे ब्लॉगर , उनके बीच हुआ मंथन विमर्श और "अधूरे सपनों की कसक" पर पूरी रिपोर्ट पढ़वाता हूँ आपको जल्दी ही तब तक इन तस्वीरों का आनंद उठाइये 
























Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...