शनिवार, 16 जुलाई 2011

वन लाइनर ..जस्ट ए झा जी कट



तो हे श्रोताओं , एवं पाठकों ओह , दर्शकों भी ..आज के वन लाइनर बुलेटिन कुछ इसी प्रकार के हैं ..बांचा जाए




रॉंग नंबर प्लीज : चाहिए कि , लग गया जी



क्या आपको याद था : माने हां कह देंगे तो मान जाइएगा क्या



हवा में उड गए 25 करोड के हीरे : आयं , अरे पुरवा थी कि पछवा हवा थी जी



जो बदलाव चाहते हैं , उन्हें ही कुछ करना होगा : और इसके लिए पहले इस पोस्ट को पढना होगा



वर्डप्रेस ब्लॉग या साइट में विजेट जोडना : इहां रतन भाई के पोस्ट पर सीखें , विधिवत रेसिपी है



जरा खबर की खबर भी ली जाए : और ऐसी कि वो खुद खबर बन जाए



क्या हमारी मीडिया भटक गई है :  नहीं , वो पैसे और टीआरपी के फ़ेर में अटक गई है



 सोच रहा हूं कि हर चीज़ में एक Good होता ही है : फ़ुर्सत में सोचिएगा तो गुडे न होता दिखेगा जी



 पत्रकार को नोटिस भेज सकता है महिला आयोग : खबरों पर मेरी नज़र इन झाजी इश्टाईल : खाली इश्टाइले में चूर रहते हैं जी , पढिए लिखिए , इश्टाईल कम मारिए




 देख लेना जब जिस्म में रूह न रहेगी : उफ़्फ़ जाने तब ये नज़र रहेगी न रहेगी



 एक खबर ये भी ले ही लो : बिना दिए मानिएगा ही नहीं आप




 किस पर लिखूं : ब्लॉगर , वर्डप्रेस , नेटलॉग , वेबलॉग किसी पर भी शुरू हो जाइए




इस बार का भारत प्रवास : सुख दुख का संगम रहा , है न




आखिर क्यूं पटरी पर लौटी मुंबई : ताकि फ़िर अगले हमले के लिए खुद को तैयार कर सके





अब क्रिकेट की भी खैर नहीं ! सरकारी खजाना लूटने के बाद अब नज़र क्रिकेट के खजाने पर :   एक तो ये नज़र ही ससुरी बहुत कमीनी है ई लोगन की जी



सवाल ये है कि बच्चों को ब्लॉग पर लाया कैसे जाए : आपही ने उठाया है , उत्तर भी बताया ऐसे जाए




आप उनको याद आयेंगे : और हम पोस्ट लिख जायेंगे




मक्खन का हाल कैसा है पता भी है आपको : नहीं , लेकिन ये पता है कि आपको पक्का पता होगा , देखा , है न



मेरा बचपन ऐसे बीता :  है हर पन्ना एक युग जीता




 सम्मान किसे अधिक मिलता है : जो पोस्ट पढता भी है और उस पर टीपता भी है




सब कुछ मेरी आंखों के सामने हुआ : आंख घुमा काहे नहीं लिए जी



गुजर जाएं करार आते आते : और लुट जाएं , बिहार आते आते ( धुन के हिसाब से यही फ़िट लग रहा था )



सूना, बारिश के भहराए शोर में : पढिएगा रात में , झुरझुराइएगा भोर में




 आखिर कब तक : शायद अनंत काल तक






रविवार, 10 जुलाई 2011

द संडे हेडलाइंस ..झा जी का वन लाईनर बुलेटिन


समाचार वाचक आपके अपने ही हैं ..




विश्व का सबसे बडा लतीफ़ा :- और किसानों के साथ सबसे बडा मजाक


टॉप हिन्दी ब्लॉग :Top Hindi Blogs :- मेट्रिक के परीक्षा में टॉप है कि बी ए के खुदे देखिए



धर्मपत्नी का मतलब :- ध्यान रहे, धर्मपत्नी कतई न पढने पावे


नायक :- अनिल कपूर वाला नहीं जी , उससे भी धांसू है


गिराने से ,गिर जाने से , सरकार :- धकियाने को कबसे ही जनता भी तैयार


दुआ की उम्र :- बडी लंबी और बडी छुपी सी होती है


रैपीडेक्स टीप्पणी कोर्स , मात्र दस मिनट में टीप्पणी करना सीखें :- और ग्याहरवें मिनट में आप कमेंट टाईप करते हुए दिखने चाहिए , समझे न


लाल मेरी पत रखियो भला :- झूले लालण जिंदडी वे ..



एस पी सिंह की रचनाओं का पहला संकलन :- बताइए जब ई रिजेक्ट माल है तो एक्सेप्ट माल क्या होगा



फ़ीका रहा  आईफ़ा 2011:- काहे , मुन्नी ,सीला , रज़िया और ज़िलेबी ब्रांड मसल्ला यूज नय हुआ क्या


भगवान को भी जलन होने लगी :- global warming इफ़ेक्क्ट , बाबू भईया , global warming इफ़्फ़ेक्ट



हैदराबाद से दिल्ली : एक रोमांटिक रेल यात्रा :- या जाटां दा रोमांस सै रे भाया ..


स्वाहा :- ओम फ़ट स्वाहा ..


बिग बॉस में जाने के लिए दागी और करप्ट होना जरूरी है ;- फ़िर तो बिग बॉस के लिए कोई आस न न बनाएं मन में


सूरज की कमर में बादलों का धागा :- सिलते ही कुर्ता आखिर कौन ले के भागा


तोसे नैना  लड गए जो इक बार :- फ़ट्ट से उसी समय फ़िर पोस्ट भई तैयार


एक कैदी की डायरी :- एक युग , एक पन्ना


नेचर कॉलिंग :- कम हेयर डार्लिंग


ब्लॉग पर लगा ताला कैसे खोलें :- हम सब सुनते हैं , पाबला जी बोलें


रेलवे ने लांच की एम-टिकट की सुविधा :- अभी तो पटरी , और उलटती ट्रेनों की दुविधा


ये इज़हार हो जाते हैं :- इक पोस्ट फ़िर बो आते हैं


इंतहा हो गई ...हर बात की :- अभी एक और आएगी पोस्ट , कल रात की







मंगलवार, 5 जुलाई 2011

वन लाइनर चर्चा ---good morning headlines ---- झा जी कहिन


आपके अपने समाचार वाचक



एक संदेश बाबा रामदेव के लिए :
फ़ौरन ही पहुंचाया जाए


उधेडबुन :   
में ही इतनी सुंदर रचना


हिन्दू विवाह अधिनियम के अंतर्गत हिन्दू औऱ बौद्ध आपस में विवाह कर सकते हैं,उसके बाद तलाक भी इसी अधिनियम के अंतर्गत कर सकते हैं


नसबंदी कराओ, नैनो ले जाओ...,पडोसी की नसबंदी करवा के भी ली जा सकती है क्या ?


 अजनबी,ये तो अपना सा लगता है


लापता शब्द,फ़िर भी पोस्ट टनाटन तैयार


क्या करते हो आप जब ऐसा होता है :- यही, यानि कि एक पोस्ट ठेल देते हैं 





क्या हाऊस वाईफ़ का कोई अस्तित्व नहीं है :,जी उनके बिना तो हाऊस का ही कोई अस्तित्व नहीं है


सेंसर बोर्ड को नहीं सुनाई देते अश्लील गाने,क्या बात करते हैं , सुना है वहीं सबसे ज्यादा बजते हैं ये


क्या बिहार में मुसलमान होना गुनाह है ???,जी नहीं , कहीं भी , इंसान होना गुनाह है


क्यों खुद से झूठ बोलता है :   ,क्योंकि , सबसे सेफ़ है इसलिए


खो गया है चांद  :,ओह , चंद्र ग्रहण का असर अब जाके पडा


आप इसे क्या कहेंगे , उच्च कोटि का बलिदान , नादानी या बेवकूफ़ी :- कुछ नहीं , क्योंकि इसे पढ कर कुछ कहने की औकात किसी में नहीं है


टल्ला मारने का यंत्र :-  फ़ौरन खरीद के टल्ला मारना शुरू करें आप भी

 

 तो आज की हेडलाइंस समाप्त हुई , बुलेटिन शाम के आठ बजे पुन: प्रसारित किया जाएगा नई हेडलाइंस के साथ

 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers