इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

सोमवार, 30 जनवरी 2012

महाशतक से पहिले महाप्रलय आ गया किरकेट टीम पर




भारतीय क्रिकेट टीम आखिरकार कंगारूओं के देश में कूद कूद के चलना तो दूर चारो खाने चित्त हो गई वो भी इत्ती चित्त कि देश की सेंटी जनता सेंटीमेंटल होकर अपनी उस टीम का जलूस निकालने में लग गई जिस टीम के विश्व कप जीतने पर जनता ने खुद जलूस निकाला था ।

भारतीय टीम कंगारूओं के साथ रेस में फ़िसड्डी आई , कोई बात नहीं अब दौडेंगे तो जीतेंगे भी और फ़िसड्डी भी आएंगे , लेकिन जुलम पे महाजुलम ये हुआ कि शतक तो शतक ससुरा एक महाशतक नहीं बन पाया । तेंदुलकर जेतना टेंसन में अपना इंडिया टीवी से बिंदिया टीवी तक हलकान हैं । तमाम विश्लेषक , कमेंटेटर सब आलोचना से लेकर नोचना तक चालू रखे हुए हैं । हो भी काहे नय ,पायदान से लेकर पोजीसन तक सब्बे डाऊन हो गिया । ऊपर से कोहलिया जम के उंगलबाजी भी कर दिए ओन्ने  ।कौनो खिलडिया सबका रिटायरमेंटी का बात कर रहा है तो कह रहा है कि हटाओ बुढबा सबको । माने कुल मिला के जईसे किरकेट हाकी हुई गई ,हाकी का प्रेस्टीज़ नय , हाकी का मारकेट भैल्यू के हिसाब से बोले हैं । 



अरे जगिए जनार्दन , आईपीएल आ रहा है बस समझिए कि झिंगालाला नर्तकियों के करेजा मार परफ़ारमेंस के बीच कलरफ़ुल ट्वेंटी-ट्वेंटी का लुत्फ़ उठाते हुए आप अपने इन्वैस्टमेंट का डायरेक्ट मल्टीप्लीकेशन होता देख सकते हैं अरे माने सट्टा इन्वैस्टमेंट फ़ेस्टीवल सेलिब्रेट करते हैं न ।

एक से एक लंगडा लूलहा ,कनहा कोतडा टाईप का भी तमाम खेलाडी जम के बल्ला भाजेंगे आ चौआ छग्गा पर बडी जोर से लोग नाचेंगे त समझ जाइएगा कि कंगारूआ सब के साथ ए लंगडी टांग का त किरकेट को कुछ समय के लिए बिंटर भकेसन पर भेज देना चाहिए , आ कुछ समय बाद । हा ..हा ....हा....हा...हा.. दुर मरदे कुछ समय बाद तो महाप्रलय आइए जाएगा , ससुरा महासतक बने कि न बने ।



16 टिप्‍पणियां:

  1. झा जी!! ई सताब्दी के महा-खिलाड़ी का महासतक का महाद्रिस्य देखने से हमलोग महावंचित रह गए.. हमको त ओइसहूँ कोनो उम्मीद नहीं था.. जो आदमी रेस्ट ले-ले के सेंचुरी बनाता है उसको आई.पी.एल. में छौंड़ी देखला से नहीं अमेरिका में रेस्ट करे का जरूरत है.. अरे भाई सेंचुरी बनाना कोनो आसान काम नय है!! समझते काहे नहीं!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कह रहे है ... हम तो अब मैच देखते ही नहीं है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. खेल को खेल ही रहने दो, इसे कोई और नाम न दो :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस मामले में तो मोक्ष की प्राप्ति हों चुकी है..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बीसीसीआई का नया फ़ैसला...

    सिर्फ घर पर ही टीम इंडिया खेलेगी...

    बाहर जाएगी तो सिर्फ बांग्लादेश और ज़िम्बाब्वे के दौरे पर...

    ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड टीम इसी शर्त पर जाएगी कि टीम इंडिया की बैटिंग के दौरान स्टम्प्स को भी पैड पहनाए जाएंगे...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  6. एकदम डबल सेंचुरी माफिक.

    उत्तर देंहटाएं
  7. हा ..हा ....हा....हा...हा.. दुर मरदे कुछ समय बाद तो महाप्रलय आइए जाएगा , ससुरा महासतक बने कि न बने ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. महाप्रलय आने से पहले एक बार महाशतक देख लेते तो प्रलय होना आसान हो जाता . :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी वर्णन शैली बहुत अच्छी लगती है.
    खेल तो बस खेल ही है.बिना हार जीत के खेल
    कैसा.उतार चढाव आता ही रहता है.

    मेरे ब्लॉग पर आप आये,मैं धन्य हो गया अजय भाई.
    बहुत बहुत आभार आपका.

    उत्तर देंहटाएं
  10. किरकेट के मामले में 13 अशुभ संख्या है। सो हमने सोचा कि चौदहवीं टीप हमही दे दें। महाशतक भी नहीं लगा है जो हमें लगे कि बड़ी देर से आए। हम तो सचिन से जादे कपिलदेव को लेकर चिंतित हैं। रिटायर होने की सलाह दे रहे हैं। उमर भी उतनी नहीं है,कैसे कहें कि सठिया गए हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  11. किरकेटवा में अबही कल मजा आवा रहा.. :) अच्छा अन्दाज है आपका!!

    उत्तर देंहटाएं

पढ़ लिए न..अब टीपीए....मुदा एगो बात का ध्यान रखियेगा..किसी के प्रति गुस्सा मत निकालिएगा..अरे हमरे लिए नहीं..हमपे हैं .....तो निकालिए न...और दूसरों के लिए.....मगर जानते हैं ..जो काम मीठे बोल और भाषा करते हैं ...कोई और भाषा नहीं कर पाती..आजमा के देखिये..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers