शनिवार, 29 दिसंबर 2007

सबसे बडका पावर है ई एस ऍम एस पावर

काल्हे गए मोबाईल चाराज़ करे बाला के पास आ कहे कि भैया तनिक मोटका बला रेचाराज़ कर दो ।

ऊ ससुर कूद पदिस , कहने लगा अरे का मूरूख आदमी है रे बाबा , रे आज काल तो सब बाबु भैया लोगन एकदम छोटका छोटका रेचाराज़ कूपन माँगता है , आ ऊ त शुकुर है कि हमरे ई रेचाराज़ तौल के नहीं देना पड़ता है नहीं ता ई नायका छोकरा-छोक्रियाँ सब त इतना छोटका रेचाराज़ मांगता कि ओतना छोटका त बाट -बत्खारा भी नहीं मिलता। हमरे लगता है देहाती भैया तू भी ऊ लोगन में से ही हो जाऊँ सब दोस्त्वा सब का मिस काल पर उका पलट के फोनिआयाते हो , काहे है कि ना?


हम कहा धत बुरबक तोरा एही त मालूम नहीं है । ई रेचाराज्वा त हम ई जतना टैलेंट शो सब चल रहा है ना ऊ सब में एस ऍम एस से भोत्वा करे खातिर लिए हैं.तोरा एही त मालूम नहीं है ॥ आवो आज हम तोरे ई मोबाईल एस ऍम एस का असली पावर के बारे में बतलाते हैं। देखो बचवा आज कल कौनो खबर , कौनो शो, कौनो त्यौहार, कौनो झगडा, कौनो प्यार, कौनो व्यापार मनो सब कुछ बिना ई मोबाईल एस ऍम एस के नहीं चल सकता है। देखो कौन समाचार ईस्कीलुसिव समाचार है ई हम तय करेंगे, कौन ससुरा टैलेंट शो में गायेगा , नाचेगा , ई हम तय करेंगे , एफ ऍम रेडियो पर कौन गनवा चलेगा ई कौन तय करेगा हमरा एस ऍम एस । आरे तू कौन दुनिया में रहता है देखा नहीं है ई पावर के बदौलत त हम पिछ्ला काटना टैलेंट शो सब में ऊ सडल गलाल प्रतियोगी सब को जज सब के छाती पर ला के बैठा दिए जेकरा सब के ऊ लोग निकाल देते थे। आउउर त आउउर हम त अपना ई पावर उज कर के ऐसन भक्लोल्वा सब का चैम्पियन बना दिए जो ससुरा सब गोबर गनेस था। सम्झ्ले बच्हू।

दोकान बाला भैया त हमरा ई एस ऍम एस पवार बाला महापुराण सुन के चकित रह गया।

आपहु सोच के देखिए ना त मज़ा आ जायेगा, कसम गंगा मैया के , सचे कह रहे हैं।

आपही का,

बिहारी बाबू आउउर ऊपर से बज्र देहाती भी

गुरुवार, 27 दिसंबर 2007

बिहारी बाबु से देहाती बाबू बनने का कारण

अरे का बतायें भैया हमरे नहीं मालूम था कि इहाँ इतना मारामारी मचल है कि हम ढंग से बिहारी भी नहीं बन सकते हैं। ओइसे त जन्मजात बिहारी हैं आ रहबे करेंगे मुदा हाल फिलहाल में हमरे पता चला कि एगो बडका भैया हमसे पहले से ही इहाँ बिहारी बाबू बन के बैठे हैं।
आ ऊ त हमका बता भी दिए कि रे बुर्बक्वा हमका तो बहुत पहले से ही बडका बिहारी का कौउनो पुरूस्कार भी मिला हुआ है । हम कहे कि अछा कमाल है भैया हमरे त आज तक ई बिहारी का लोग तोंत्वे मरा है आज तक कौउनो ईनाम फीनाम नहीं मिला है हो।


भैया कहे कि रे इहाँ तो एक बिहारी से ओइसन सब परेशान है आ तू आउउर आ के कंफुजन कर राहा है त ऐसन कर कुछ और सोच ले ।


हम कहे कि ठीक है भैया चलिए आज से ई बिहारी बाबू आब देहाती बाबू बन जायेंगे।

मुदा एगो बात जान लीजिए कि लिखेंगे वही अपना बिहारी पन में । कहिये काऊउनो गलत बात ता न न कहे ?

बुधवार, 26 दिसंबर 2007

अरे गिरने काa कौनो लिमितिवा है कि नहीं?

अरे बाबु भैया लोग ई कलजुग माँ लगता है कि किसी को नीचे गिरने का , एकदम निकृष्ट हो जाने का , एक दम रसातल में चले जाने का कूनो लिमिट नहीं बच गया है महाराज।

आज काल्हे पपेर्वा में पढे कि राजधानी का एगो बहुत बडका हास्पीटल में daktarwaa सब एगो छोटका बाछा का किडनी निकाल दिहिस , अरे नहीं भैया कौउनो बीमारी में नहीं बल्कि गलती से अब ई त बताने का जरूरत तो नहीं है कि ई डाक्टर सब आज कल ई किडनी , आँख , लिवर, निकाले और पेट में तोलिया, रुमाल, कैंची, चादर सब छोड के अलावा और कन्या भ्रूण हत्या जैसन काम भी खूब जोर शोर से कर रहा । हे भगवान् ई जिनका सब के कभी भगवान् का दूसरा रुप समझा जाता था ऊ सब का ई हाल है । भैया आउउर कितना नीचे गिरोगे अब?

एगो दूसरा चीज़ पर गौर फरमाइये , कल एगो टी वी न्यूज़ चैनल (ओइसे त ई सब न्यूज़ चंनेल्वा सब जरूरत से ज्यादा तेज़ हो गया है ससुरा सब ) पूरा दिन भर ऊ नौटंकी राखी सावंत का डान्स शो हारने वाला किस्सा को लेकर के बैठ गया आ महाराज ई तो सुनिए प्रतिक्रिया किस्से पूछ रहिस था हाँ ठीके समझे उनका परम मित्र ऊ अपने शास्त्रीय संगीत गायक मिका जी से। अरे भैया टी वी रिपोर्टर सब कभी ई दिल्ली, बोम्बी से बहरो जा के देखो ना , तू लोग से त बहुत बढियां बीबीसी वाला लोग हैं जो उरिस्सा जा कर वहाँ का लोगों का भूख मरी का खबर पूरे देश को दिए । भैया ई कौन से पत्रकारिता कर रहे हो ? यार तू लोगन का थिंक टंक एक साद गल गया है । कौनो नयापन कौनो नई बात का तुमका बाज़ार वाले बताएँगे ? भैया बस करो अब और काटना नीची पहुंचोगे एक दम पाताल तक ठेक गए हो.

आ गिरने उठने की का बात कहें भैया राजा से लेकर कर प्रजा तक हम सब एक दम से गिरते ही चले जा रहे हैं , तो हम त ई जानना चाहते हैं कि एकर कूनो लिमिट है कि नहीं । आ यदि है त कौउन सा है एक बार पता चल जाता त चिचियते नहीं रहते.

रविवार, 23 दिसंबर 2007

वेलकम के बाद सीलमपुर

का हो भोला भैया वेलकम देखला कि ना , बहुत मजेदार है हम त सीधा वहीं से देख के आ रहे हैं।

आइन का कह रहा है रे पल्टू ,हम तो तोरा बहुत पहले ही कह दिए थे कि जा जाके देख कइसन शानदार बनाया है ट्राफिक का त समस्या सारा खत्म हो जायेगा ससुरा।

ई का कह रहे हो भोला भैया वेलकम से ई दिल्ली के त्रफिच्क्वा का ,का संबंध है हो ? अरे तू कौन वेलकम का बात कर रहे हो?


वेलकम मेट्रो स्टेशन आउऊ का , हमरे पता है जौन एक बार ऊ मेट्रो स्ताशन्वा पर पहुंच जाता है ऊ त बस ओकरे गुण गाने लगता है।

अरे नहीं भैया हम त ई नायका पिक्चर के बारे में बता रहे हैं अरे ई अक्षय कुमार आ ऊ अन्ग्रेज़ं छः फुटिया कटोरिया कैफ के जोरदार पिक्चर द कह रहे थे।

अरे तोरी के ई वेलकम stationwaa के नाम पर पिक्चरों बन गया । हमरे त पहले से ही पता था कि ई बम्बई वाला हीरो हेरोइन सब जैसे ही मेट्रो के बारे में सुनेगा जरूर पिक्चर बनाएगा । रे पलटू पता कर त कहीं ऐसन त नहीं चल रहा है कि वेलकम के बाद ई अपना सीलमपुर पर भी कौनो पिक्चर बनावे का पीरोग्राम हो। यदि ऐसन कौनो बात होगा त हम लोग भी तीराई मरल जाएगा कम से कम शूतिन्गवा में अपना लोग का ई झुग्गीअया सब का एक आध गो फोटो भी आ जाएगा त निगम बाला सब कहीं खुश हो अपना झुग्गी ना तोड।

मुदा भोला भैया हम त पूरा पिक्चर में कहीं भी वेकम stationwaa का कौना बात नहीं सुने ना ही ओकर फोटो देखे

अरे तोरा पता नहीं चला होगा कास्टिंग में दिखा दिया होगा। हमरा त मन कह रह है कि हो ना हो वेलकम के बाद सीलमपुर पिक्चर भी बंबे करेगा।




*यहाँ ये बता देना आवशयक है कि वेलकम और सीलमपुर दिल्ली के मेट्रो रूट पर पड़ने वाले दो स्टेशन हैं.

शुक्रवार, 14 दिसंबर 2007

बचवा सब बड़ा हो गया है जी

बुद्रूक्वा का एही आदत था कि जाबो आयेगा एगो नायका खबर सुनाएगा । ई बार भी चिचियाते पहुंचा। हम कहे कि का हुआ रे, तोरे फरीदाबाद नोइडा में सब कुछ ठीक त हाउ ना?

अरे कहाँ झोल्तान्मा भैया अबकी त जुलुम हो गवा। पास के एगो इस्कूल में दू ठो आठमा का बच्चा अपने साथिये को गोली दाग धिहिस, पूरा इलाका संसनायल है।

का कह रहा , बचवा सब ग्लिबारी किये है आ ऊऊ भी अपना साथिये को मार धिहिस। साला ई सब अमरीकन बँटा जा दरहा है ससुरा।

का मतबल झोल्तानमा भैया, ई से अमरीका का कौन रेलेशन है हो, आप त सब कुछ में अमेरिके का दोष बता देते हैं।

आरे, तोरे का लगता है ई बम गोली वाला ideaa पहिले अमेरिके में न आविष्कार होता है। ऊ ससुरा अन्ग्रेज्वा सब यही अंट-शंट सीखता सिखाता रहता है आउउर अपन बछवा सब भी ओईसने होता जा रहल है । तोहरा याद नहीं है पिछला साल भी एगो दोसर बडका इस्कूल के एक ठो लड़का-लडकी के मोबाईल सिनेमा (ऍम ऍम अस ) से काटना बवाल मचा था। मुदा एगो बात त है ई जतना बडका इस्कूल है ना ई सब छूछे इंटरनेशनल नहीं लिखता है ई सब में पढाई इंटरनेशनल हो ना हो मुदा ई सब काम इंटरनेशनल लेवल का होता है। ना त तू ही बता सरकारी इस्कूल का धिया पुता सब खाले सिनेमे में रिवाल्वर देखा होगा ओकरा त बेचारा सब के खिचडी खे से फुरसत नहीं होगा त ग्लिई बारी का करेगा।


सुने हैं झोल्तानमा भैया के ई कन्द्वा के तीनो बच्चा के बाप लोग प्रोपर्टी डीलर आ बिल्डर लोग हैं।

आएँ ई कौन काम है रे हम त बस ई मिटटी टेल ,चीनी गेहूँ बाटें वाला डीलर का नाम सुने थे ।

अरे नहीं भिया ई अलग हैं। ठक-ठीक त हमरो ना मालोम है मुदा सुने हैं के ई सब ओ लोग हैं जो मकान मालिक सबके एहसास दिलाता है कि आपका मकान सचमुच आप्हे का है आउउर किरायेदार लोग के भी कह के रखता है कि हमरे रहते तोरा मकान मालिक का बाप भी नहीं निकाल सकता है । बिल्डर सब दूसरा लोग सब का बिल्डिंग आ घर बनाता है।

अरे मार ससुरा सब के का बनाएगा दोसरा के घर ई सबसे जब अपना घर नहीं संभालता है। रे बुदृक्वा सौ बात के एक बात त ई है कि ई बदलता युग में अपन बचवा सब बचवा नहीं रह गया है, बहुत बड़का हो गया है रे, जाने अभी आउउर का का होगा?

रविवार, 9 दिसंबर 2007

ई रामदास तैयार हैं।

जयेसे ही हमरे पता चल कि सबसे बडका हस्पताल के डोक्टोरनी सब पेपर टी वी में कहिस है कि " हम लोग रामदास को शादी का प्रस्ताव भेजे हैं मगर शर्त है कि शादी के बाद उनको गाओं में हमारे साथ रहना होगा"।

आप लोगन मानिए चाहे ना मानिए मुदा हम समझ गयी कि बस ईहे ऊ क्षण है ,ऊ मौउका है जिसका बरसों से इंतज़ार था। बचपने में जब एक बार हम हस्पताल में भर्ती हुए थे त एगो स्किर्ट वाला नर्स से मोने मोन उनसे प्रेम कर बैठे , मुदा जैसे ही इजहार किये ऊ नर्स हमरे इतना तगडा सूईआ थोकिस कि राम-राम। आ आब अचानक खुदे डोक्टोरनी सब प्रस्ताव भेज दियी हैं।

देखिए हम समझाते हैं। पहली बात कि चारों पहर रामायण-रामचरितमानस का पाठ करते हैं, राम नवमी का व्रत रखते हैं आउउर ता आउउर अभियू दसो दिन रामलीला देखने जाते हैं। त हमही ना हुए असली राम दास।
आ रही शर्त के बात त ई त सोने पे सुहागा हो जाएगा भाई। शादी के बाद डोक्टोरनी को लेके अपना गाम भैन्स्लोतान्पुर चले जायेंगे । होएजे रहेंगे हस्पताल खोलेंगे आ ई अपना बीलाग भी लिखेंगे ।

कहिये कइसन पीरोग्राम लगा हमारा.
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers