इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

बुधवार, 26 दिसंबर 2007

अरे गिरने काa कौनो लिमितिवा है कि नहीं?

अरे बाबु भैया लोग ई कलजुग माँ लगता है कि किसी को नीचे गिरने का , एकदम निकृष्ट हो जाने का , एक दम रसातल में चले जाने का कूनो लिमिट नहीं बच गया है महाराज।

आज काल्हे पपेर्वा में पढे कि राजधानी का एगो बहुत बडका हास्पीटल में daktarwaa सब एगो छोटका बाछा का किडनी निकाल दिहिस , अरे नहीं भैया कौउनो बीमारी में नहीं बल्कि गलती से अब ई त बताने का जरूरत तो नहीं है कि ई डाक्टर सब आज कल ई किडनी , आँख , लिवर, निकाले और पेट में तोलिया, रुमाल, कैंची, चादर सब छोड के अलावा और कन्या भ्रूण हत्या जैसन काम भी खूब जोर शोर से कर रहा । हे भगवान् ई जिनका सब के कभी भगवान् का दूसरा रुप समझा जाता था ऊ सब का ई हाल है । भैया आउउर कितना नीचे गिरोगे अब?

एगो दूसरा चीज़ पर गौर फरमाइये , कल एगो टी वी न्यूज़ चैनल (ओइसे त ई सब न्यूज़ चंनेल्वा सब जरूरत से ज्यादा तेज़ हो गया है ससुरा सब ) पूरा दिन भर ऊ नौटंकी राखी सावंत का डान्स शो हारने वाला किस्सा को लेकर के बैठ गया आ महाराज ई तो सुनिए प्रतिक्रिया किस्से पूछ रहिस था हाँ ठीके समझे उनका परम मित्र ऊ अपने शास्त्रीय संगीत गायक मिका जी से। अरे भैया टी वी रिपोर्टर सब कभी ई दिल्ली, बोम्बी से बहरो जा के देखो ना , तू लोग से त बहुत बढियां बीबीसी वाला लोग हैं जो उरिस्सा जा कर वहाँ का लोगों का भूख मरी का खबर पूरे देश को दिए । भैया ई कौन से पत्रकारिता कर रहे हो ? यार तू लोगन का थिंक टंक एक साद गल गया है । कौनो नयापन कौनो नई बात का तुमका बाज़ार वाले बताएँगे ? भैया बस करो अब और काटना नीची पहुंचोगे एक दम पाताल तक ठेक गए हो.

आ गिरने उठने की का बात कहें भैया राजा से लेकर कर प्रजा तक हम सब एक दम से गिरते ही चले जा रहे हैं , तो हम त ई जानना चाहते हैं कि एकर कूनो लिमिट है कि नहीं । आ यदि है त कौउन सा है एक बार पता चल जाता त चिचियते नहीं रहते.

2 टिप्‍पणियां:

  1. manyavar ajay ji
    main priya ranjan jha hun. mera BIHARI BABU KAHIN naam se kaafi pahle se blog hai. pichhale saal ka Indibloggies Awards bhi Mujhe mil chuka hai.
    dekhen ------http://www.indibloggies.org/results-2006

    dikkat ye hai ki aapne bhi isi naam se blog banaya hai, thode herfer ke saath. isase blog jagat mein thoda confusion hai. kya main ummid karun ki aap is baare mein kuchh sochenge.......

    mujhe aapka email nahin pata, isaliye yahan likh raha hun. aap mujhse
    priyaranjan.jha@timesgroup.com par sampark kar sakte hain. Mera mo. no. 9810937198 hai.

    aapke jawab ki pratiksh mein.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. are sarkar, aapkaa hukm sar aankhon par main aapko bahut pehle se jaantaa hoon aapke navbharat times ke ise naam ke coloumn se haan magar ye nahin jaantaa thaa ki aapkaa is naam se blog bhi hai . pehle sochaa tha ki is blog ko hi hataa detaa hoon parantu filhaal ise main koi naayaa naam de raha hoon yadi phir bhi dikkat bani rahtee hai to aap jab kahein main is blog ko hi hataa dungaa.

    aapko huee kathinaai ke liye maafi chaahta hoon.

    aapkaa,
    ajay kumar jha
    mob 9871205767

    उत्तर देंहटाएं

पढ़ लिए न..अब टीपीए....मुदा एगो बात का ध्यान रखियेगा..किसी के प्रति गुस्सा मत निकालिएगा..अरे हमरे लिए नहीं..हमपे हैं .....तो निकालिए न...और दूसरों के लिए.....मगर जानते हैं ..जो काम मीठे बोल और भाषा करते हैं ...कोई और भाषा नहीं कर पाती..आजमा के देखिये..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers