इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शनिवार, 29 दिसंबर 2007

सबसे बडका पावर है ई एस ऍम एस पावर

काल्हे गए मोबाईल चाराज़ करे बाला के पास आ कहे कि भैया तनिक मोटका बला रेचाराज़ कर दो ।

ऊ ससुर कूद पदिस , कहने लगा अरे का मूरूख आदमी है रे बाबा , रे आज काल तो सब बाबु भैया लोगन एकदम छोटका छोटका रेचाराज़ कूपन माँगता है , आ ऊ त शुकुर है कि हमरे ई रेचाराज़ तौल के नहीं देना पड़ता है नहीं ता ई नायका छोकरा-छोक्रियाँ सब त इतना छोटका रेचाराज़ मांगता कि ओतना छोटका त बाट -बत्खारा भी नहीं मिलता। हमरे लगता है देहाती भैया तू भी ऊ लोगन में से ही हो जाऊँ सब दोस्त्वा सब का मिस काल पर उका पलट के फोनिआयाते हो , काहे है कि ना?


हम कहा धत बुरबक तोरा एही त मालूम नहीं है । ई रेचाराज्वा त हम ई जतना टैलेंट शो सब चल रहा है ना ऊ सब में एस ऍम एस से भोत्वा करे खातिर लिए हैं.तोरा एही त मालूम नहीं है ॥ आवो आज हम तोरे ई मोबाईल एस ऍम एस का असली पावर के बारे में बतलाते हैं। देखो बचवा आज कल कौनो खबर , कौनो शो, कौनो त्यौहार, कौनो झगडा, कौनो प्यार, कौनो व्यापार मनो सब कुछ बिना ई मोबाईल एस ऍम एस के नहीं चल सकता है। देखो कौन समाचार ईस्कीलुसिव समाचार है ई हम तय करेंगे, कौन ससुरा टैलेंट शो में गायेगा , नाचेगा , ई हम तय करेंगे , एफ ऍम रेडियो पर कौन गनवा चलेगा ई कौन तय करेगा हमरा एस ऍम एस । आरे तू कौन दुनिया में रहता है देखा नहीं है ई पावर के बदौलत त हम पिछ्ला काटना टैलेंट शो सब में ऊ सडल गलाल प्रतियोगी सब को जज सब के छाती पर ला के बैठा दिए जेकरा सब के ऊ लोग निकाल देते थे। आउउर त आउउर हम त अपना ई पावर उज कर के ऐसन भक्लोल्वा सब का चैम्पियन बना दिए जो ससुरा सब गोबर गनेस था। सम्झ्ले बच्हू।

दोकान बाला भैया त हमरा ई एस ऍम एस पवार बाला महापुराण सुन के चकित रह गया।

आपहु सोच के देखिए ना त मज़ा आ जायेगा, कसम गंगा मैया के , सचे कह रहे हैं।

आपही का,

बिहारी बाबू आउउर ऊपर से बज्र देहाती भी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

पढ़ लिए न..अब टीपीए....मुदा एगो बात का ध्यान रखियेगा..किसी के प्रति गुस्सा मत निकालिएगा..अरे हमरे लिए नहीं..हमपे हैं .....तो निकालिए न...और दूसरों के लिए.....मगर जानते हैं ..जो काम मीठे बोल और भाषा करते हैं ...कोई और भाषा नहीं कर पाती..आजमा के देखिये..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers