इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

गुरुवार, 7 अप्रैल 2011

जंतर मंतर से लौट कर -2 .......अन्ना की आंधी में उड जाएगी हुकूमत

देखिए कि एक संत ने फ़िर से छेड दी है आजादी की दूसरी लडाई ....और जानिए ..क्योंकि अब नहीं निकले आप अपने घरों से तो फ़िर ..कब निकलेंगें ...लिखिए पढिए ..बहस करिए ....हर तरफ़ से एक आवाज उठनी चाहिए कि जो इस बहरी सरकार के कान के पर्दों को फ़ाड के रख दे .....बताइए आप हैं न साथ ....???

9 टिप्‍पणियां:

  1. हमारे बच्चों के लिये एक सुन्दर देश।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमें तो बहुत देर से इंतेज़ार था इस युगपुरुष का ॥

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या एक अच्छी बात को कोई अच्छा आदमी दोबारा नहीं कह सकता ?
    हमारे पोस्ट डालते ही अजय कुमार जी ने फटाक से एडिट करके पोस्ट ही बदल डाली .
    हम तो आपके सहस को सलाम ही करते रह गए .
    हा हा हा
    http://aajkamudda.blogspot.com/2011/04/1.html

    उत्तर देंहटाएं
  4. अन्ना हज़ारे के साथ होने के लिये गैरराजनितिक होना जरूरी है इसलिये सारी लेकिन हर राजनेता चोर नही होता यह भी जानना जरुरी है .

    उत्तर देंहटाएं
  5. अन्ना ठहरे फ़ौजी ऐसे नेताओं को सीधा करके मानेंगे।

    उत्तर देंहटाएं

पढ़ लिए न..अब टीपीए....मुदा एगो बात का ध्यान रखियेगा..किसी के प्रति गुस्सा मत निकालिएगा..अरे हमरे लिए नहीं..हमपे हैं .....तो निकालिए न...और दूसरों के लिए.....मगर जानते हैं ..जो काम मीठे बोल और भाषा करते हैं ...कोई और भाषा नहीं कर पाती..आजमा के देखिये..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers