इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शनिवार, 9 अक्तूबर 2010

हमको हीरो बनने में बडा मजा आता है जी ......सच्ची कसम से ..

हमारा शुरू से ही आदत रहा है कि ..जब देखो ..फ़टाक से आगे कूद जाते हैं ....गली मोहल्ला का लडाई सुलटाना होता था चाहे ...कि निगम , पुलिस के पास शिकायत करने की बात ....या फ़िर कि स्कूल कॉलेज के दिनों में .....पूरी लडकी गैंग को ....पिकनिक पर ले जाने के लिए निमंत्रण देने की ...मैं बाय डिफ़ाल्ट ही सबसे आगे हो जाता था ...और कमबख्त ये आदत अब तक नहीं छूटी ...कुछ हुआ न हुआ ...दन्न से सबसे आगे ...रही सही कसर ..हो गए श्रीमती जी मिलन से ..वे हमसे भी एक कदम ..हम दन्न तो वे दनाक से ..। बस जी फ़िर तो ऐसा लगा हमें कि हीरो की हीरोइन भी मिल गई है ..एकदम मैंचिंग ...।

ये हीरोगिरी मुझे तब और भी भाती है जब मैं ऐसे काम करता हूं ..कभी रास्ते में स्कूटर खडा करके ...किसी बडी ईंट को उठा कर रास्ते से बाहर हटा देता हूं ...कभी अचानक भरी हुई बस में सीट से उठ कर किसी महिला को अपनी सीट दे देता हूं ..कभी किसी अनजान व्यक्ति को भी .....एक या दो रुपए की चेंज ( जिसके लिए वो बेचारा फ़ंस जाता है दुकानदार के सामने या कहीं और ) उसे तपाक से ऑफ़र कर देता हूं ...या फ़िर कि ...रास्ते में खडी भीड के बीच पहुंच कर देखता हूं कि माजरा क्या और देखने के बाद फ़िर वही हीरोगिरी ..। मानता हूं कि कई बार गले पडता है बहुत कुछ ....मगर यकीन मानिए सैकडों बार जो ....अनुभूति होती है ....उससे रोमांच और खुशी मिलती है ..आह उस सुख को कैसे लिख पाऊंगा मैं



अभी कुछ वर्षों पहले ही एक दिन अचानक देखा कि अदालत परिसर में ही रक्त दान का कैंप लगा हुआ है ..अधिवक्ता मंच द्वारा आयोजित इस कैंप में कोई भी कर्मचारी जाने में रुचि नहीं दिखा रहा था ...बस जी हम और हमारी पलटन जी ने संभाल लिया मोर्चा ..देखिए कैसे लंमलेट पडे हैं और कर रहे हैं रक्त दान ....असर ये हुआ कि तब से अब तक ...रक्त दान कैंप में ..कर्मचारियों की भागीदारी देखने वाली होती है ..

अभी पिछले साल ही ...सपरिवार यहीं पास में ही रामलीला ग्राऊंड में ..देखा कि नेत्र दान कैंप लगा हुआ है ...बस जी देखिए आ गए हीरो हीरोईन एक साथ ....



सोचता हूं कि ये हीरोगिरी चलती रहनी चाहिए ..कल को बच्चे बडे होंगे तो खुशी से कह सकेंगे ...कि हां हमारे मम्मी पापा ..सच में हीरो थे ........कितनी तृप्त होगी आत्मा ....है न

23 टिप्‍पणियां:

  1. ..बहुत लोग हैं जो नेक काम करने की सोंचते हैं, दूसरे वे हैं जो करने की शिक्षा देते हैं, आप नेक काम करते भी हैं और करने के लिए प्रेरित भी करते हैं...जानकर अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब भाई साहब हीरोगिरी करोगे तो हीरो तो बनोगे ही उस में कहने की क्या बात है ??
    सब जानते है झा जी है ही हीरो .... है के नहीं ??
    बस आपकी यह हीरोगिरी चलती रहे यही दुआ है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी आदत हे जी,बहुत अच्छी धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही कहा और कोई कहे न कहे मगर खुद की आत्मा को सुकून मिलता है कि एक तो नेक काम किया य किसी के काम आये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऐसे हीरों की देश को आवश्यकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम भी बहुते हिरोगिरी दिखाता हूँ... एक बार एक ठो आदमी को हम नाली में गिरते हुए देखे... अच्छा ख़ासा सूटेड बूटेड आदमी था.... हम दौड़ कर गए उ का उठाये... और झाडे पोंछे.... पूछे भाई साहब आपको चोट तो नहीं लगी....? तभी का देखते हैं की उ पिया हुआ था...और पी कर लुढ़क गया था नाली में.... हम उ का दोबारा धकेल दिए नाली में.... और नाली में गिराने के बाद उसे लात से भी कचर दिए ...ताकि अच्छे से सन जाए...

    जब चले तो पीछे से एक ठो आवाज़ आई.... बडका...चले थे हीरो बनने.... हम धीरे से मुस्कुरा दिए...

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut hi sunder dastan hai aapki
    jha sahib .
    sunder laga
    jindagi ek aag ka dariya kud kar aage jana hai.

    उत्तर देंहटाएं
  8. नेक कार्य कभी अचानक भरी हुई बस में सीट से उठ कर किसी महिला को अपनी सीट दे देता हूं .".........."(इधर लिखते लिखते रह गये )हा हा हा जस्ट हंसने के लिये
    जय माता दी

    उत्तर देंहटाएं
  9. नेत्र दान-महादान!!

    आप तो हीरो हईये हैं, इसमें कौन शाक है...और ये कार्य कर के तो और बड़का वाले हो गये हमारी नजर में...हीरोईन जी को भी प्रणाम भेज रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  10. ‘कॉलेज के दिनों में .....पूरी लडकी गैंग को ....पिकनिक पर ले जाने’

    चला मुरारी हीरो बनने :) ... कितनी लुप्त होगी आत्मा :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. हीरो गिरी होते रहने चाहिए
    इससे प्रेरणा मिलती है लोगों को।

    वाह झा जी छा गए।

    उत्तर देंहटाएं
  12. हीरो हीरोइन को नमस्कार...चलती रहे आपकी हीरोगर्दी ..!

    उत्तर देंहटाएं
  13. ओ जी ऊकील साहेब,
    ऐसी हीरोगिरी का कौनो वायरस बनवाकर फ़ैलवा दीजिये न, बहुत दरकार है अईसन हीरो हीरोईन की।
    महफ़ूज़ भाई की हीरोगिरी भी मस्त लगी।

    ऐसी हीरोगिरियां चलती रहें जी, दुआ है हमारी।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छा लगा झा जी !
    व्यक्ति हीरो बन कर पैदा नहीं होता ......या तो लोग बना देते हैं या फिर बड़े काम करके ख़ुद बनना पड़ता है

    आप आपने सत्कर्मों से और प्रेरक व्यव्हार से अगर लोगों को प्रभावित कर देते हो तो आप सच्चे हीरो हैं

    हीरोगीरी ज़िन्दाबाद

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत अच्छा काम है रक्त-दान .... किसी का जीवन बचाना बड़ा काम है ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत अच्छा काम है रक्त-दान .... किसी का जीवन बचाना बड़ा काम है ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. कल से बाहर था इसलिए इस पोस्ट को नही देख सका!
    --
    आपने बहुत ही उम्दा पोस्ट लगाई है!
    --
    इस सार्थक प्रयास के लि्ए साधुवाद!
    --
    नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    --
    जय माता जी की!

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. बिलकुल टीपब भाई आप येतना महान काम जवन करत बानी. एकदम हीरो जैसन काम. उ फिलम वालन हीरो से एकदम अलग जे ससुरा पैसा खातिन सब करै न. अच्छा काम करै कै ख्वाहिस सबके मन में मगर असल हारो उ जे आप जैसन आगे कदम बढावै.......

    उत्तर देंहटाएं

पढ़ लिए न..अब टीपीए....मुदा एगो बात का ध्यान रखियेगा..किसी के प्रति गुस्सा मत निकालिएगा..अरे हमरे लिए नहीं..हमपे हैं .....तो निकालिए न...और दूसरों के लिए.....मगर जानते हैं ..जो काम मीठे बोल और भाषा करते हैं ...कोई और भाषा नहीं कर पाती..आजमा के देखिये..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers