इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

गुरुवार, 14 जनवरी 2010

दो लाईनों की पटरी, पूरे ब्लोग नगर से गुजरी (ब्लोग लिंक्स )



मुझे बहुत खुशी है कि , अब ब्लोगजगत में कम अब कम से कम ये शिकायत तो किसी को नहीं होगी कि ,पोस्टें तो लिखी जा रही हैं , मगर चर्चा नहीं होती ।आप खुद देख पढ रहे हैं कि किस तरह से नित नई चर्चाएं, एक से बढ के एक अंदाज ,कलेवर,और शैली में आपके सामने प्रस्तुत हो रही हैं ।और ये तो बस एक शुरूआत भर है ,,आगे आगे देखिए होता है न क्या ??। हां आगे की चर्चाओं में कोशिश ये होगी कि आपसे उन अनछुए , अनजाने,और सुंदर ब्लोगपोस्ट, ब्लोग्गर्स , और ब्लोग्स से आपकी मुलाकात कराई जाए ॥

कहते हैं, दूर हुए जो थे सब अपने॥


ललित जी अपने अंदाज में सजा रहे मंच,
नए नए स्टाईल से ,चर्चा हो रही टंच ॥


संक्रांति के अवसर पर कुछ धार्मिक सा हो जाए,
विष को पीकर, शिव जी नीलकंठ कहलाए ॥



खास अंदाज में खुशदीप खींचते हैं खाका ,
आज तो मक्खन की जेब पर पड गया डाका ॥



जानिए कि एक कला होती है,डुबकी लगाना,
कला सीखनी है तो सफ़ेद घर हो के आना ॥



इहां एक ठो नेता जी , लगे हैं कुछ बताने,
आप भी सुनिए, अमर सिंह लगे हैं ब्लागियाने ॥


अपनी बला से कोई रूठ भी जाए ,
अंतर्मंथन की पोस्ट पढ के आए ॥


शब्दों के सफ़र को भी ध्यान से लिया जाए देख,
आज का शब्द है ,क्या होता है मीन मेख ॥



अक्ल हो तो मरे हुए गधे को भी बेच सकते हैं ,
प्रमाण के लिए , आप ये पोस्ट देख सकते हैं ॥



शरद भाई ने पोस्ट में पेश की फ़िर नायाब चीज,
प्रेमी कहे प्रेमिका से,जानम स्माईल प्लीज ॥


यहां पहुंच कर दीजीये हैप्पी बर्थडे की बधाई ,
इसलिए तो खासकर ,ये पोस्ट गई है लगाई ॥




नकली पंजाब नेशनल बैंक ने जैसे ही चारा डाला,

बेचारों को पता नहीं था,पड गया किससे पाला ॥



तनाव के दौर में बिन हास्य फ़ुहार के होता है वो गरीब,
आप मुंह तैयार रखें , हंसने की यहां बताई गई है तरकीब ॥


अरे कहां अटक गए भैय्या, जल्दी पढने भाग,
तमाम तरह की सोच का बंडल है , दिमाग ॥



प्रीती टेलर ने फ़िर आज बुन दिया कुछ खास,
आज की पोस्ट में हो रही है जश्न की तलाश ॥



यहां मिलता है वो जो बातें गई हैं भूली ,
उसने कहा था कह कर कैसे की जाती है उंगली ??



अब चंद पंक्तियां यहां पढिए आप सुहानी ,
इनके लफ़्जों को समझा जाए इनकी कहानी ॥



अब एक झक्कास पोस्ट पढने को हो जाईये तैयार,
जानिए ताऊ का किससे,कैसा था करार ॥



चंद्रभान जी अपनी पोस्ट में देखें क्या कह रहे हैं आज,
लिखिए, पढिए , पर अपना आप नया रखिए अंदाज ॥




पढते पढते आप अब डालिए यहां नजर ,
जिंदगी के चौराहे पर जाने कौन गया ठहर ॥



चिट्ठाकारों के प्रति यहां विवेक भाई ने शिकायत कराई दर्ज़
चलिए नोट किया हमने तो अब नहीं भूलेंगे फ़र्ज़ ॥
तो आज की पटरी बस यहीं तक बनी है, सफ़र जारी है ...........................


तो आज की पटरी बस यहीं तक बनी है, सफ़र जारी है ...........................

23 टिप्‍पणियां:

  1. सही पटरी गुजरी..मजा आया.बेहतरीन!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या कोई ज्ञानी बता सकता है कि चिट्ठाचर्चा पर की इस टिप्पणी में ऐसा क्या था जो इसे रोक रखा गया है?
    http://murakhkagyan.blogspot.com/2010/01/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. sari patri gujar gai par hamara ghar to na aaya [:(] ........bahut achchi patri hai bhaiya.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब चलाई है सरकार ने रेल
    अब नित ही रहेगी रेलम पेल
    आया है ठंडी का ऐसा झोंका
    देखिए सब हीटर हो गए फ़ेल

    उत्तर देंहटाएं
  5. देखिए अब इतना सब होने के बाद पोस्ट एडिट होने के बाद भी एक पोस्ट चर्चा में वो छूट गई जिसके लिए मुझ से आग्रह किया गया था ,मगर वादा है कि यदि अगली बार चर्चा की (जिसके लिए अब तो सोच रहा हूं कि इसे विराम दे दूं,हमेशा के लिए ) तो निश्चित रूप से उनकी चर्चा तो करूंगा ही ,आशा है तब तक के लिए वे क्षमा करेंगे ।शिखा जी , आपके घर में तो हम खुद ही घुसे हुए हैं , चर्चा का क्या है वो हो न हो , आप हिट हैं हिट रहेंगी
    अजय कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  6. अजय जी, आज शिखा जी ने शिकायत की है ये अच्छी बात नई है (बतर्ज़ अटल जी)
    अपनी दो लाईनों की पटरी को ब्रॉडगेज में बदलिए और स्टॉपेज़ बढ़ाईए :-)

    बी एस पाबला

    उत्तर देंहटाएं
  7. भईया आप की यह दो लाईन की पटरी तो बहुत सुंदर सफ़र करवा रही है

    उत्तर देंहटाएं
  8. अजय भाई,

    हमने केवल आपकी पटरी की बात नहीं की थी, और न ही हम चिट्ठाचर्चा के लिये कुछ कहना चाहते थे परंतु फ़िर भी मन की टीस निकल गई, क्या करें। आप इतने अच्छॆ कार्य को विराम न दें, इसे जारी रखें, इससे ब्लॉगर्स को प्रोत्साहन मिलता है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बिना खर्चा देखने को मिल गई बढ़िया दमदार चिट्ठाचर्चा

    उत्तर देंहटाएं
  10. दो लाइनों को बिछाने में आप माहिर हैं जी!

    उत्तर देंहटाएं
  11. अजय भईया आप तो कमाल के हो, पता नहीं कैसे इतने चिट्ठे को दु लाईंन में समेट लेते हो । बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  12. ब्लोगनगर के सारे स्टेशन भी अच्छे लगे!

    उत्तर देंहटाएं
  13. जबरदस्त तूफ़ान मेल की तरह दौड रही है आपकी ये चर्चा तो. बहुत सुंदर.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छी रही चर्चा शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  15. दो लाइनों की पटरी खूब चल रही है
    इसे अंतराष्ट्रीय स्तर पर बिछाना होगा
    संकल्प जो लिया है उसे निभाना होगा
    ऐसे ही न जाने देंगे लोग
    जो वादा किया वो निभाना होगा
    कुछ दुरान्तो और लेडिज स्पेशल भी चलाना होगा

    उत्तर देंहटाएं

पढ़ लिए न..अब टीपीए....मुदा एगो बात का ध्यान रखियेगा..किसी के प्रति गुस्सा मत निकालिएगा..अरे हमरे लिए नहीं..हमपे हैं .....तो निकालिए न...और दूसरों के लिए.....मगर जानते हैं ..जो काम मीठे बोल और भाषा करते हैं ...कोई और भाषा नहीं कर पाती..आजमा के देखिये..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers