इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

रविवार, 4 नवंबर 2007

बिहार में त्यौहार

ओइसेय त हमरे बिहार में मुख रुप से फगुआ (होली) सरोसत्ती पूजा ,दुर्गा पूजा आ छट पूजा है। मुदा साल भर में हनी वाला सब पावन त्यौहार भी मनाएबेय करते हैं सब जैसे दिवाली, भैहाडूज, राखी, सब कुछ।

दिवाली( नहीं नहीं ,दिया-बाती कहते हैं हमरे यहाँ ) सच कहें त बिहार में ओतना तड़क-भड़क और जोरदार में नहीं मानता है बल्कि ई कहें कि छठ पूजा के जोराम्जोर महोत्सव के नीचे दब के रह जाता है।
हाँ दिया बाती में कुछ खास जरूर होता है। पहला है कि पूरा गाँव ,मोहल्ला , का लोक सब एकदम जोर शोर से
सफाई-लिपाई ,पोताई, में लग जाता है। घर ,अंगना, दालान, खादिहान, सब कुछ चमका देल जात है।

दिया बाती के दिन लक्ष्मी पूजा के बाद बढियां-बढियां, पाक-पकवान पर हाथ साफ कराल जाईत है। एगो खास बात कि ओहां ई गिफ्ट शिफ्ट का कोनो चक्कर नहीं है भी। रही बात पटाखा और बम सब फोड़ने कि त ऊ भी बहुत ज्यादे नहीं हो पाटा है। हाँ एक बात जरूर है कि रात में जब बहुत सारा डिबिया और छोटा छोटा दीप से घर अंगना जग्माता हैं ना त सच मानिए पूरा अँधेरा दूर हो जाता है। इहाँ शहर में कहाँ रहता है ओतना अँधेरा त सच में त दिवाली का असली मकसद त ओहीं पूरा होता है।

त कभी चलिए न हमरे साथ आप भी दिवाली में हमरे देश

झोलटनमाँ

1 टिप्पणी:

  1. वाह भई वाह
    बिहार घुमाने के लिए शु्क्रिया

    एक ठो दीया हमार ओर से भी बार दीहब

    उत्तर देंहटाएं

पढ़ लिए न..अब टीपीए....मुदा एगो बात का ध्यान रखियेगा..किसी के प्रति गुस्सा मत निकालिएगा..अरे हमरे लिए नहीं..हमपे हैं .....तो निकालिए न...और दूसरों के लिए.....मगर जानते हैं ..जो काम मीठे बोल और भाषा करते हैं ...कोई और भाषा नहीं कर पाती..आजमा के देखिये..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers