इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

बुधवार, 14 नवंबर 2007

dilli में छठ पूजा

dilli में छठ पूजा,जरूर,
ई का मतलब है दूजा,
साल भर बिहारी को गरियाते हो भाई,
वोतन के चक्कर में ,
अब दे रहे हो बधाई,।

त्रैन्वा से घर जा न सके,
आउउर पूजा त करना जरूरी है,
ई काली जमुना में डुबकी लगाना,
सच कहें त बस मजबूरी है।

हे सूरज देवता, कुछ त कर ऊपाय,
या त जमुना के नदी बना द ,
या द
सबके आपण घर पहुंचाया ॥


झोल्तानमा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

पढ़ लिए न..अब टीपीए....मुदा एगो बात का ध्यान रखियेगा..किसी के प्रति गुस्सा मत निकालिएगा..अरे हमरे लिए नहीं..हमपे हैं .....तो निकालिए न...और दूसरों के लिए.....मगर जानते हैं ..जो काम मीठे बोल और भाषा करते हैं ...कोई और भाषा नहीं कर पाती..आजमा के देखिये..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers