इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शुक्रवार, 14 अगस्त 2009

जय कन्हैया लाल की, पोस्टें हैं कमाल की (चिट्ठी चर्चा )

आप सबको जन्माष्टमी की बहुत बहुत बधाई और मुबारकबाद ...इस अवसर पर ना जाने क्यूँ बस एक बात मष्तिष्क में घूम रही है...हम हर साल इन पर्व त्योहारों को तो खूब धूम धाम से मनाते हैं ..कृष्ण को, उनके हर रूप को ....सबको याद करते हैं, उनकी पूजा अर्चना करते हैं ....मगर कृष्ण जीवन की ..कृष्ण के गीता उपदेश की ..गीता के दर्शन की ..याद शायद ही कभी याद आती हो ...खैर ...

आज की चर्चा का लुत्फ़ लीजिये .....


न पढिये , न पसंद कीजिये , और न ही टिपियाइये ,
जन्माष्टमी पर प्रभु के दर्शन कर के आइये

रुकने को किसने कहा , आगे बढ़ते जाइए,
दर्शन तो हो गए, अब कृष्ण लीला , नोश फरमाइए

सबने अपना समय आज इसी में खर्चा है,
चहुँ और नंदलाल की ही तो चर्चा है..

या तो कृष्ण हैं छाये आज , या छाई हुई तकरार ,
आप निकाले खुद ही, रही सार्थक , या हुई बेकार


तिरंगे के कोड को लेकर कुछ ऐसे उठा विवाद,
आप खुद ही देखिये , क्या हुआ इसके बाद

इधर चल रहा वाद विवाद , उधर पकड़ में आया चोर,
पकडो ,पकडो ,माफी मंगवाओ , सब और यही था शोर.

कुछ यादें, कुछ लहरें, उनकी गिनती , मैं और तुम ,
आप भी पढिये मन से , अपने होश कीजिये गुम

ताऊ की पिक्चर का रिलीज हुआ पहला एपिसोड
गब्बर ने ठाकुर से मांग कर गन कर लिया लोड

इक रोमांटिक सी जर्नी , जिसे कहते हैं सफ़र
अनिल भाई की कलम में देखिये कितना है असर

क्यूँ इधर उधर इतना रहे हैं भटक ,
देखिये इस पोस्ट में माँ की रोटियों की महक

ब्लॉगजगत का नन्हा ब्लॉगर , कभी बैठता नहीं बेकार,
आज कर दिया एक बार फिर से टेलीफोन का आविष्कार

वो कह रहे हैं , उसे इल्म नहीं मेरे फोन काल का,
आप खुद ही पढिये , क्या लिखा है , कमाल का ,

इस ब्लॉग के लेखक हैं शब्दों के खिलाडी ,
आज जानिए क्या होता है जोड़तोड़ ,किसे कहते हैं जुगाड़ी

शुकल जी अभी अभी ,अपने इश्टाईल में चर्चियाये हैं,
आप भी देखिये, किस किस को लटकाए हैं ...

एक साबुन से हुई इन्हें अटैचमेंट कितनी इमोशनल ,
एकदम निजी अनुभव हैं, नहीं है प्रोफेशनल

आजादी की संध्या पर स्वतन्त्रता संघर्ष में महिलाओं की भूमिका जानिए,
इनके लिखे का माना है लोहा , पढिये , और आप भी मानिए

पोस्ट ये समर्पित है, वतन के रखवालों को,
शत शत नमन , आजादी के मतवालों को

का का तो कह दिए ,पांडे जी, बुजुर्गियत के बहाने से ,
कौन नहीं दीवाना हुआ , उनके इस फ़साने से

वो कुछ भी कह दें , उसमें होती है कुछ बात ,
आज फिर पहुँची है वो, उसी अदा के साथ

इस देश में न जाने कैसी बन रही परिपाटी ,
निर्दोष पर ही पुलिस भी भांज रही है लाठी


मिसर जी ने भी स्वाईन फ्लू को समर्पित की एक पोस्ट ,
कह रहे ई ससुरे मेहमान का,मौसमवा है जी होस्ट


चलिए आज के लिए इतना ही ..आजादी की सालगिरह पर आप सबको बधाई ...

13 टिप्‍पणियां:

  1. जन्माष्टमी की घणी रामराम.

    बेहतरीन चर्चा.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जय जन्‍माष्‍टमी
    भई
    जय जन्‍माष्‍टमी।

    आज का दिन आज की जन्‍माष्‍टमी
    याद रहेगी सदा सदा सर्वदा
    मुलाकात हुई है इस चर्चा के
    कन्‍हैया अजय जी से
    और उनके बाल गोपाल से
    सचमुच मन प्रसन्‍न हो गया
    यही जन्‍माष्‍टमी पूजन हो गया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जन्माष्टमी की घणी रामराम.

    बेहतरीन चर्चा.

    छाते जा रहे हो !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्‍छी रही आपकी चिट्ठी चर्चा .. जन्‍माष्‍टमी और स्‍वतंत्रता दिवस की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छी पोस्ट! जन्माष्टमी और स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभ-कामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जन्माष्टमी और स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक बधाई मित्र!

    उत्तर देंहटाएं
  7. जन्माष्टमी और स्वतत्रता दिवस की शुभकामनाऐं..

    उत्तर देंहटाएं
  8. जन्माष्टमी और स्वतंत्रतादिवस दोनों की शुभकामनाएं। बहुत बढ़िया चर्चा करते हैं आप।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बढ़िया !
    बीच में आपने ना लिखने का निर्णय लिया था तो मुझे दुःख हुआ था !
    कोई कुछ भी कहे आप वो करें जो दिल कहे !

    उत्तर देंहटाएं
  10. kabhi kabhi ham deri se tipiyane aate hain
    par 'jha ji kahin' ko mat sochein ham bhool jaate hain.

    उत्तर देंहटाएं
  11. श्री गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभ कामनाएं

    उत्तर देंहटाएं

पढ़ लिए न..अब टीपीए....मुदा एगो बात का ध्यान रखियेगा..किसी के प्रति गुस्सा मत निकालिएगा..अरे हमरे लिए नहीं..हमपे हैं .....तो निकालिए न...और दूसरों के लिए.....मगर जानते हैं ..जो काम मीठे बोल और भाषा करते हैं ...कोई और भाषा नहीं कर पाती..आजमा के देखिये..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers