इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

सोमवार, 31 अगस्त 2009

मंडे मुस्कान मंद मंद, चिट्ठी चर्चा छंद छंद


मुझे नहीं पता कि मैं..चर्चा में क्या करता हूं...कोई कहता है..तुकबंदी है..तो कोई कहता है छंदमयी है चर्चा..बस अपना तो एक ही फ़ंडा है...आपको पढ के जो भी मेरे मन में आता है....उसे दो पंक्तियों में समेट कर रख देता हूं...मुझे खुशी होती है..कि इसी बहाने इतने सारे ब्लोग्स को एक दम घुस कर पढ लेता हूं...वैसे पढ्ने के लिये मुझे बहाने की जरूरत नही है..मगर ये तो है ही.....और खुशी दोगुनी तब हो जाती है जब अविनाश भाई द्वारा दिये गये जादू के चिराग ...अजी लिंक बनाने का नुस्खा ...को पकड कर मैं आपको उन सब तक ले जाता हूं..आज एक और खास बात कहनी है आपसे...बहुत जल्दी ही मैं इस चर्चा में ......एक ही चर्चा में .. सौ पोस्ट को समेट कर सबसे लम्बी चर्चा आपके सामने रखने की कोशिश करुंगा...




आज ब्लोगजगत की सबसे प्यारी ये खबर ..
एलियन जी की सालगिरह , पर सबकी नज़र..


अरे आप खुद ही देखिये मैं क्या बता दूं..


सबने प्यार और फ़ूलों का गुलदस्ता भिजवाया...

अपना नुकसान करेगा , जो रहेगा इससे अकेला रह कर..


छुट्टी हो गयी है, किसकी कहां पर,


बेचैन हुआ ब्लोग्गर, पोस्ट लिखी फ़टाफ़ट...


फ़ार्मूला यदि रहे कारगर तो इनको जरूर बताना..


यहां रोटी के लाले, पट्ठा पिज़्ज़ा खा रहा है..


दसवीं सालगिरह पर ब्लोगस्पोट ने दिये क्या क्या उपहार,


तारीखों की कहानी की पोस्ट बडी ये मस्त..


क्या था सारा गोलमाल, आज समझ में आया..


आज मोरा मन कहता है, छूं लूं इनके पांव.


अरे आपने नहीं पढा, तो आप पढेंगे कब


ब्लोगजगत की अपनी पत्रिका है जनाब


बस ये नहीं पता चला कि , क्या मिली थी रामप्यारी.


फ़ुर्सत से पढने का, फ़ुर्सत से सोने का..


आज बहुते गंभीर होके कहते हैं फ़ुर्सतिया,





तो फ़िर आप घूमिये..इस दुनिया में..अजी आपकी ही है..

सर दर्द ने शाम से किया हुआ है परेशान,
आज इतने से ही काम चलाइये श्रीमान..

























































































रविवार, 30 अगस्त 2009

रविवार की छुट्टी, चर्चा मीठी-खटटी..(चिटठी-चर्चा)


पिछले कुछ दिन में जितना उथल पुथल वाला पोस्ट सब पढे ...कि का कहें....आ सच कहें तो कुछ भी नहीं कहने का मन करता है..बस ब्लोग्गिंग किजीये जी सब लोग ..जम के किजीये....बंकिया सब छोडिये....



सबसे पहले आज गया इस पोस्ट पर ध्यान,


विवेक भाई ने इस पोस्ट में जाने किसे क्या समझाया,


जब जब वर्मा जी की कलम यूं लहरायेगी,


एक विजेट लगाने से दिखती हैं २५ पोस्ट..

ब्लोग जगत का एक ळंठ, अद्भुत है अंदाज़,


चिंता काहे की है, वकील साहब हाज़िर हैं श्रीमान.


ना पढलअ ई पोस्ट कहां पर ह सूतल हो,


बिनावजह नहीं लिखे हैं, जन्मदिन का है चिंतन,


कौन नहीं जानना चाहेगा, जब बता रह खुद समय..

महक का पूरे बरसात में, मन हो गया खटटा...

अब तक संगीता जी ने कई भविष्यवाणीयों से चौंकाया,


चल रही गणेश पूजा, कहीं हो रहा खिलवाड,


प्रशांत जी ने इस पोस्ट में कुछ खास है बताया,


क्या देखा सुना , जादू, पानी के बरसने का,


खबरों के धंधेबाजों के लिये ये संदेश है,


छोडिये, टंटा-लफ़डा, सारा, अब किजीये, स्माईल..


लगा हुआ है कई, ब्लोग्गर्स का कार्नीवल..


पोस्ट को पढिये, टिप्पणियां ठेलिये..


आलोक बाबू की शैली , सच में जानदार है..


इसीलिये तो जनता दुखी, और दुखी हुआ ये देश,


आउर का का कह्ते है, खुदही पढ लो भाया..


आज सबको ये , यही तो हैं लगे बताने,


अरे दुखी काहे होते हैं, रहिये अगली को तैयार...


गिनीज़ बुक तक पहला ब्लोग पहुंच ये पाया..


चलिये जी..इससे जादे चर्चियायेंगे ..तो फ़िर आपका पूरा रविवार व्यस्त हो जायेगा ..और रविवार में परिवार भी तो है..उसका भी तो सोचिये..हम चलते हैं....अरे बाहर नही....जी एक ठो दूसरका पोस्ट भी ठेलना है आज के आज....


































गुरुवार, 27 अगस्त 2009

आज की चिट्ठी चर्चा



आज कुछ भी लिखने का मन नहीं कर रहा है..सो सीधे सीधे चर्चा पर आता हूँ..


ताउजी के परिचय नामा में,आज मेहमान हैं इक ख़ास,
वाचस्पति जी ज्ञानी हैं, नाम है अविनाश

आंखों की धार भी चुपचाप बहती है,


देर किस बात की है , भई, जल्दी किजीये..

बता रहे हैं, कहां आजकल इन दोनों का डेरा..

कुछ नहीं लिखने का था मन तो ,लिखा दनादन,

शाम का अंधेरा देखा होगा, अब शाम का देखिये उजाला,


शिक्षा के क्षेत्र में ये चली है कैसी हवा...


लो जी..आज अचानक एक घट्ना हो गयी सच्ची,


आपने नहीं पढा क्या, नाम है चोखेरबाली..


एयरटेल और डिश टीवी में क्या है आखिर अंतर,


इन्होंने जीता पुरुस्कार, आप तो मुंह मीठा किजीये,


भविश्यवाणी है ये , इस बार दिवाली में दिक्कत आयेगी,


आप भी जानिये, हिन्दी ब्लोग्गिंग में हम क्या कर रहे हैं,


वो कह्ते हैं, उन्हें मिली थी एक लडकी ,


खून की क्या हुई कीमत, पोस्ट पढ के ही जानी


रविश जी की कलम से आज कौन है छपिस,


तसवीरें देख के , हम तो गये सिहर

उनको आप समझाइये, इसलिये आप तक पहुंचाया है..


ऐसे ही शब्दों से अजित बाबु करा रहे पह्चान


आपकी इस लेखनी पर कुर्बान जन-जन..


आप तो खुद ही देखिये, मैं क्या कहूं, हज़रात...


हंसने हंसाने में ही तो है, जिंदगी का राज...



चलिये ..तो बस आज इतना ही...

सोमवार, 24 अगस्त 2009

संगीत ब्लोग्स का, बात उनके सुर साज की , लीजिये जी पेश है चिट्ठी चर्चा आज की

जी हाँ सच ही तो कहा है ...मेरे लिए तो सारे ब्लोग्स संगीत की तरह हो गए हैं...जिसे भी खोलता हूँ ..नयी धुन...नए बोल...नया सुर..नए साज...और नया गीत-संगीत....बिलकुल अलग अलग स्वाद, अलग अलग मिजाज..अलग अलग राग वाला ...खैर ...ये मेरी समस्या है ...की मुझे इसमें कभी संगीत..कभी साहित्य..कभी समाज..और कभी पता नहीं क्या क्या दिखता ही रहता है...आप तो आज की चिट्ठी चर्चा का मजा लीजिये ..

आप देखिये , इनका क्यूँ और कैसे मन कर रहा है कूदने का,
ऐसी धारा प्रवाह लेखनी , वक्त है पढने का, और डूबने का

चलते फिरते कबाड़खाने में पहुँच गयी आज कनुप्रिया,
आप खुद ही देखिये , किसने किसको याद किया

ताऊ की मंडे मैगजीन का अपना इक स्थान,
इसीलिए इतने कम समय में ही बन गयी पहचान

लावण्यम पूछे अंतर्मन से कित्ते हमारे साल हुए,
गणपति बाप्पा को समर्पित पोस्ट पढ़ कर हम निहाल हुए

भारत में त्यूहारों का है लोक जीवन से सम्बन्ध,
इस विषय पर आज पढिये अनवरत में निबंध

इंटरनेट पर हिंदी, मिथक और यथार्थ,
कैसा किया विस्फोट, आपने हे पार्थ

कैसी है सच्चाई , कैसी है ये कहानी,
देह की भूख के आगे , सब कुछ बेमानी

कह रहे हैं डाक्टर बाबू सबका समझाए के ,
उड़ जाना नहीं, सबके होश उडाये के

फाटक चंद और झंडू लाल घूमने गए भोपाल,
सुन्दर चित्रों से सजी हुई पोस्ट बनी कमाल.

कौन जाने कौन क्या कह जाए कब,
महुआ कहे आज अपनी उदासियों का सबब

मेलं मेल की धक्कम पेल , ऐसी बढ़ी तकरार,
इसका भी इलाज लेके फिरसे आया ब्लॉग बुखार

आज जन्मदिन है पी डी के लड्डू गोपाल का,
सबको चल गया पता, लल्ला हो गया इक साल का

कहती हैं भावना , अब ठीक हो गयी बिटिया रानी,
बाँकी की पोस्ट आगे अभी और है आनी

वाया अविनाश भाई, पप्पू सबको बुला रहा ,
व्यंग्य लिखो , इनाम पाओ, सबको यही बता रहा

आज मिली सूचना , दुबले भी हैं दौड़ते,
जो नहीं हैं दुबले , वो उनपे पोस्ट हैं लिखते

हे भगवान् अब मत भेजना किसी भी जिन्ना को ,
देखिये कितना टेंशन हो गयी, बेरोजगार मुन्ना को

सिगरेट और संगीत से सज गया आज मयखाना ,
पीओ पढो या सुनो , जो मन आये कर आना

जन्मदिन है आज अदा का, वही अदा दिखाती रही,
कह रही है आज अदा, अदा खुद से ही बतियाती रही

फिर से एक बार वो हो चीज जो वो है,
क़माल की है ये , जो है सो है


चलिए रात बहुत हो चुकी है ..इसलिए आज की चर्चा पर विराम लगाते हैं..बहुत समय से सोच रहा हूँ की ..जो नया इस चर्चा के लिए सोच रखा था ..उसे प्रयोग में लाऊं...मगर शायद अभी वक्त मुझे उतना वक्त नहीं दे रहा है ...चलिए आगे सही..

शनिवार, 22 अगस्त 2009

जय हो गणपति बप्पा की, देखिये किसकी चर्चा की

साल का ये आधा भाग ..कम से कम भारत में तो बहुत ही खुशियों भरा रहता है ...या कहें की त्योहारों का / उत्सवों का ...रोशनी का , मिठाइयों का ..अजी क्या क्या कहें ..और किस किस का मौसम होता है ....और मौसम खुशगवार होने की तैयारी कर रहा होता है ..तो बस शुरू कीजिये आप भी ..तैयारी ..गणपति पूजा की, दुर्गा पूजा की..दिवाली की ..सबकी........शुभकामना ....

चलिए फिलहाल तो चर्चा का मजा लीजिये ....

सिगरेट के साहित्य (विल्स कार्ड ) ,के बाद, अब बीडी ब्रेक का मजा लीजिये ,
अजी मारिये गोली आपत्ति को , आप तो यूँ ही लिखा कीजिये

कहती है स्वप्निल , इस बार , उसके घर भी आयेंगे गणेशा ,
हमारी शुभकामना , सुख समृद्धि भी आये साथ हमेशा ..

सुना है आजकल प्रोपर्टी की रेट हो रहे हैं हौट,
फिर भी अविनाश भाई कहते , कहाँ पे लूं मैं प्लौट

राज भाई का आनन फानन में भारत आना हुआ ,
हुए अस्वस्थ , तो फिक्रमंद ये ज़माना हुआ


सफ़ेद घर में आज ऐसी हरी भरी एक पोस्ट है गयी लगाई,
पढ़ के , देख के , जाने किस किस को घर की याद आयी

लंठ महाचर्चा में , अब आ गए हैं बित्तन बाबा ,
गिरिजेश जी की अद्भुत शैली, अद्भुत आभा

ये कहते हैं , कमीने न नेचुरल हैं न ही इमानदार ,
कमाल है , कमीने भी ऐसे क्या होते हैं यार

परसाई जी को याद करके , शरद भाई ने कमाल का संस्मरण है पढ़वाया ,
जिस जिस ने चखा इसको , कभी मछली का, कभी फिश करी का स्वाद आया

पढ़ा , देखा , सुना कि, बिहार से खाने की इक थाली है आयी,
इस पोस्ट ने माँ की फिर से याद है दिलाई

कमीने देखने जाना था , फिर भी अलोक जी ने चर्चा कर दी चिट्ठों की,
आप खुद ही देखिये , चर्चा हुई है कित्तों की

ताऊ जी की पहेली का उत्तर देने का अब समय हुआ ख़तम ,
जय गणपति बप्पा की , इस बार समझ गए हम


ऐड्स दूर करने के लिए मंत्रों का हो गया आविष्कार,
वाह वाह कलयुग में अद्भुत ये चमत्कार

नेता निकलते सड़क पर , सड़कें होती बंद ,
राजतंत्र में आज यही मुद्दा हुआ कलमबंद

संगीता जी ने मंजू दीदी के बहाने , ये किसका दर्द उठाया ,
आप खुद ही देखिये , कौन कौन पढ़ -टीप के आया

विश्व स्वस्थ्य संगठन के खिलाफ यहाँ हुआ विरोध ,
होम्प्योपैथी के खिलाफ क्यूँ करे कोई प्रतिरोध

बारिश से बेहाल हुए , निकल गया सारा दम ,
इरफान भाई की तुलिका में फंस गया दिल्ली नगर निगम

आसान नहीं होती , राख में मुस्कान की तलाश ,
गौर से पढियेगा, पंक्तियाँ है बहुत ख़ास

इंसान के भीतर इक कुत्ता छुपा होता है ,
जानिए वो कैसे कैसे बड़ा होता है

वो पूछ रहे हैं , कहाँ चली गयी देश की दाल ,
हम क्या कहें जी , खाए हो गए कितने साल

मिसर जी गए घूमने , पहुँच गए बाजार,
कैमरा भी साथ था , धाँसू पोस्ट हुई तैयार


इस पोस्ट का , शीर्षक है , जयचंद , जिन्ना और जसवंत ,
इसी के साथ अब इस चर्चा कर , करते हैं हम अंत



तो मित्रों/बंधू ..आज की चर्चा हुई ख़तम,
कल रविवार की चर्चा के साथ फिर से हाज़िर होंगे हम

रविवार, 16 अगस्त 2009

कहीं जारी बहस ,कहीं पर द्वंद , आप तो पढिये , चर्चा के ये छंद

हलाँकि शुरू से एक जो बात नियमित रूप से ब्लॉग्गिंग में दिख रही है ...वो है कोई न कोई विवाद ....और वाद विवाद तो एक स्वस्थ और जागरूक समाज की निशानी है .....मगर विवाद भी स्वस्थ और स्पष्ट अर्थों में हो तो सार्थक होता है....इतने बड़े परिवार में मतान्तर होना स्वाभाविक है ...और जरूरी भी...मगर उद्देश्य हमेशा यही होना चाहिए की ...उससे किसी का भला हो न हो ...कम से कम बुरा नहीं हो ...और दूसरी बात जो इन दिनों बहुत ज्यादा देखने में आ रही है ..वो हिंदी ब्लॉग्गिंग पर ..खुद हिंदी ब्लोग्गेर्स के द्वारा ही ..लगातार प्रश्नचिन्ह लगाना ....बात गंभीर है ..और दुखद ये है की प्रवृत्ति बनती जा रही है .....खैर ...इस विषय पर तो मैं अपने दुसरे ब्लॉग पर विस्तार से लिखने का प्रयास करूँगा ..फिलहाल तो आप आज की चिट्ठाचर्चा का आनंद लीजिये ..

यहाँ दिल्ली में पिछले तीन दिनों की लगातार बारिश ने मौसम में थोड़ी सी ठंडक ला दी है ..जबकि ब्लॉग जगत आज काफी गर्मागर्म लग रहा है ...देखिये .....


राज भाई कहते हैं , बस अच्छा लिखते जाओ यार,
टिपण्णी मिले बिलकुल कम , या मिले बेशुमार

विनय पत्रिका में साहित्य पर कुछ है कहा गया,
हमसे तो बिना पढ़े , बिलकुल भी न रहा गया

प्रवीण जी को उनकी बात का, दिया संगीता जी ने जवाब ,
ये पूछ कर कि ,क्यूँ की गयी उनकी छवि खराब

ब्लॉग बुखार से परेशान हैं, बिलकुल मत घबराइये,
अपने चिट्ठे का मुफ्त हेल्थ चेकअप , यहाँ पर करवाइए

ब्लॉग्गिंग में हो रही गाली गलौज का क्या हुआ परिणाम ,
रोमन में की टिपण्णी , हो गया काम तमाम

कोई कहता है बादशाह, कोई कहें हमें डॉन,
अमरीकीयों ने फिर भी पूछा ,आप हैं कौन

इंसानों के पढ़ लिए अब पढिये किस्से भूत के,
हाय क्या लिखा है जालिम, दिल ले गए लूट के

स्वप्न लोक में घुमते हुए , पहुंचे कहाँ से कहाँ ,
जाओ जहां मर्जी चाहे, मगर रहो हमेशा यहाँ

डाकखाने ने अपने सचिन से पूछे हैं कुछ सवाल ,
अरे क्रिकेट के नहीं, पोस्ट के, कैसा हुआ कमाल

प्रधानमंत्री के भाषण में ,न्यायव्यवस्था पर कुछ कहा गया,
देखिये तीसरे खंभे पर , इस बारे में क्या लिखा गया

राजीव भाई को हंसते हंसते , सबने इतना प्यार दिया,
आज उनके ब्लॉग पोस्ट ने सौ का आंकडा पार किया

डाक्टर साहब ने जाकिर साहब को क्या खूब है समझाया,
धर्म और आस्था का अब मतलब समझ में आया

ताऊ जी की पहेली अबकी जीते सुशील कुमार .
मेरिट लिस्ट आ गया जी अबकी नाम हमार

पांच पंक्तियाँ लिख के ये चुप्पी किसने ओढी ,
आप पढ़ के देखिये , ये चुप्पी किसने तोडी

चलती रहे ये जिन्दगी, अलविदा मत कहा करो,
नहीं कहेंगे जी, कभी, आप यूँ ही लिखा करो

लविज़ा की मम्मी को कैसा अनोखा आईडिया आया,
आपम खुद ही देखिये, उसने कैसे इनदेपेंदेंस डे मनाया


आज की चर्चा ..यहीं पर समाप्त करते हैं ...

शुक्रवार, 14 अगस्त 2009

जय कन्हैया लाल की, पोस्टें हैं कमाल की (चिट्ठी चर्चा )

आप सबको जन्माष्टमी की बहुत बहुत बधाई और मुबारकबाद ...इस अवसर पर ना जाने क्यूँ बस एक बात मष्तिष्क में घूम रही है...हम हर साल इन पर्व त्योहारों को तो खूब धूम धाम से मनाते हैं ..कृष्ण को, उनके हर रूप को ....सबको याद करते हैं, उनकी पूजा अर्चना करते हैं ....मगर कृष्ण जीवन की ..कृष्ण के गीता उपदेश की ..गीता के दर्शन की ..याद शायद ही कभी याद आती हो ...खैर ...

आज की चर्चा का लुत्फ़ लीजिये .....


न पढिये , न पसंद कीजिये , और न ही टिपियाइये ,
जन्माष्टमी पर प्रभु के दर्शन कर के आइये

रुकने को किसने कहा , आगे बढ़ते जाइए,
दर्शन तो हो गए, अब कृष्ण लीला , नोश फरमाइए

सबने अपना समय आज इसी में खर्चा है,
चहुँ और नंदलाल की ही तो चर्चा है..

या तो कृष्ण हैं छाये आज , या छाई हुई तकरार ,
आप निकाले खुद ही, रही सार्थक , या हुई बेकार


तिरंगे के कोड को लेकर कुछ ऐसे उठा विवाद,
आप खुद ही देखिये , क्या हुआ इसके बाद

इधर चल रहा वाद विवाद , उधर पकड़ में आया चोर,
पकडो ,पकडो ,माफी मंगवाओ , सब और यही था शोर.

कुछ यादें, कुछ लहरें, उनकी गिनती , मैं और तुम ,
आप भी पढिये मन से , अपने होश कीजिये गुम

ताऊ की पिक्चर का रिलीज हुआ पहला एपिसोड
गब्बर ने ठाकुर से मांग कर गन कर लिया लोड

इक रोमांटिक सी जर्नी , जिसे कहते हैं सफ़र
अनिल भाई की कलम में देखिये कितना है असर

क्यूँ इधर उधर इतना रहे हैं भटक ,
देखिये इस पोस्ट में माँ की रोटियों की महक

ब्लॉगजगत का नन्हा ब्लॉगर , कभी बैठता नहीं बेकार,
आज कर दिया एक बार फिर से टेलीफोन का आविष्कार

वो कह रहे हैं , उसे इल्म नहीं मेरे फोन काल का,
आप खुद ही पढिये , क्या लिखा है , कमाल का ,

इस ब्लॉग के लेखक हैं शब्दों के खिलाडी ,
आज जानिए क्या होता है जोड़तोड़ ,किसे कहते हैं जुगाड़ी

शुकल जी अभी अभी ,अपने इश्टाईल में चर्चियाये हैं,
आप भी देखिये, किस किस को लटकाए हैं ...

एक साबुन से हुई इन्हें अटैचमेंट कितनी इमोशनल ,
एकदम निजी अनुभव हैं, नहीं है प्रोफेशनल

आजादी की संध्या पर स्वतन्त्रता संघर्ष में महिलाओं की भूमिका जानिए,
इनके लिखे का माना है लोहा , पढिये , और आप भी मानिए

पोस्ट ये समर्पित है, वतन के रखवालों को,
शत शत नमन , आजादी के मतवालों को

का का तो कह दिए ,पांडे जी, बुजुर्गियत के बहाने से ,
कौन नहीं दीवाना हुआ , उनके इस फ़साने से

वो कुछ भी कह दें , उसमें होती है कुछ बात ,
आज फिर पहुँची है वो, उसी अदा के साथ

इस देश में न जाने कैसी बन रही परिपाटी ,
निर्दोष पर ही पुलिस भी भांज रही है लाठी


मिसर जी ने भी स्वाईन फ्लू को समर्पित की एक पोस्ट ,
कह रहे ई ससुरे मेहमान का,मौसमवा है जी होस्ट


चलिए आज के लिए इतना ही ..आजादी की सालगिरह पर आप सबको बधाई ...

बुधवार, 12 अगस्त 2009

चिट्ठी चर्चा वाली , हमने फिरसे डाली

देश में स्वाइन फ्लू का कहर फैलता जा रहा है....स्कूल , कॉलेज ,सिनेमा, दफ्तर ..सब बंद किये जा रहे हैं...बस एक बात समझ में नहीं आती की ...जब कुछ समय पहले से ही इसकी प्रसार और आक्रमण की खबरें थी तो ..सरकार , स्वास्थ्याजागत ,,,क्यूँ नहीं ...पहले से एहतियात बरत कर ..इसके लिए खुद और जनमानस को तैयार कर सकी....जो भी हो अब तो इश्वर से एक ही प्रार्थना है की ..जल्दी ही ये हालत काबू में आ जाएँ ....

आज की चर्चा आपके लिए पेश है ....


निंदा की जाए चीन की , या दिया जाए धन्वाद ,
इसका फैसला कीजिये , ये पोस्ट पढने के बाद

इन तरही गज़लों को पढिये , आँखें तर कीजिये,
पसंद आयें तो टिप्प्न्नी से पोस्ट को भर दीजिये

शब्दावली में आज अर्थ जानिए अभिवादन का,
दोगुना हो जाएगा , भाषा के रसास्वादन का

तोफा बन गया सोफा , किसको हुआ कबूल ,
पढिये -हंसिये, जो हँसना गए हैं भूल

ब्लॉगजगत की पहली पिक्चर हो रही है रिलीज
ताऊ जी की शोले का टिकट अभी से ले लीजिये प्लीज

वंडरफुल लाईफ है , दुनिया हुई निगोड़ी ,
डाक्टर साहब अपने अंदाज में जो न कह जाएं थोडी

बिना पढ़े ही कैसे पसंद मिली, मनीषा ने किया सवाल
अलबेला जी की साफगोई ने , फिर से किया कमाल

छोटे विवेक जी आज है जनम दिन, आशीष दीजिये,
स्वप्नलोक के नौनिहालों से आप भी मिलिए

इनकी नींद को कौन उड़ा के ले गए ,
सुंदर सी पोस्ट में वे , सबको, बहा के ले गए

थोडा सा ज्ञान पाइए , थोडा सा मनोरंजन ,
आ रहा गूगल का नया सर्च इंजन ..

राष्ट्रकवि और हिंदी के ठाठ देखिये ,
अमर बाबु ने लगाई कैसी वाट देखिये..

शब्दशिखर में वन्देमातरम और मुस्लिम समाज है,
रोज की तरह , फिर से इक सार्थक पोस्ट आज है

क्या है लड़की , मीनू जी बता रही हैं,
समाज को सच का आईना दिखा रही हैं

फटाफट पहुँचिये , आप भी लीजिये इनको पहचान ,
अरे नकदी की भी व्यवस्था है ,इनाम में श्रीमान

कंप्यूटर शब्दावली को बतलाता ब्लॉग ये अनोखा ,
क्यूँ नहीं पहुंचे अब तक , किसने है रोका

कुश भाई ने चर्चा करके नाम रख दिया चर्चु,
बधाई हो कुश मिया, सुना आप बन गए चाचू

हमने पूछा आदि से , और क्या कर रहे हो भाई,
अले अंकल आप भी देखो , खिलोने की कैसी बैंड बजाई

स्वाइन फ्लू की खबर से मनोज जी बोले बाप रे बाप,
इसके अलावा क्या क्या कहा , खुद पढ़ लीजिये आप..

दो बातें एहसास की तन्हाई में कीजिये
मैं ज्यादा क्या कहूँ , आप ही पढ़ लीजिये

अच्छा जी ...राम राम...अपना और अपनों का इस फ्लू के कहर में ध्यान रखिये ....

मंगलवार, 11 अगस्त 2009

चिट्ठाचर्चा में जो हुआ ये अन्तराल, नेट कनेक्शन ने किया था बेहाल

जी हाँ ,...इरादा तो यही था ..की जब वापसी करेंगे....इस चिट्ठे पर चर्चा की तो कोशिश करेंगे की ..जल्दी से अन्तराल ना आये...और होता भी ऐसा ..मगर हमारे इस इरादे की खबर ..कमबख्त हमारे नेट कनेक्शन वाले को नहीं थी शायद..मुआ लगा नखरे दिखाने ..जब देखो ..डिस्कनेक्टेड...एक दिन दो दिन...एक ब्लॉगर को दो दिनों तक ..ब्लोगों को लिखने-पढने, टीपने जैसे मौलिक अरे नहीं नैटिक अधिकार ..अरे नेट से जुड़े अधिकार भाई .....से वंचित रहे तो काहे का पंद्रह अगस्त जी..हमने भी ..आखिरकार ..उसे फाईनल अल्टीमेटम दे ही दिया..साथ ही ताकीद कर दी की बेटा आज के आज यदि ..हमारा समबन्ध ब्लॉगजगत से स्थापित नहीं हुआ ..तो .उनसे तो कल को हो ही जाएगा ..मगर तुमसे न होगा..जान लो...खैर जैसे तैसे ...गाडी पटरी पर आ गयी....तो लीजिये हाजिर है ..हमारे अंदाज वाली चिट्ठी चर्चा ...

अभी हाल ही में पी डी बाबु गए घूमने पटना,
कैसे बना दोस्त पत्रकार , पढिये अद्भुत घटना

यदि ब्लॉग्गिंग की किसी भी समस्या से आप हैं परेशान,
इस क्लीनिक में हर रोग का होता है निदान

इस पोस्ट को पढ़ के आप हो जायेंगे हैरान,
अरहर की जीवनी का अद्भुत किया बखान

एक साल पूरे हुए इनके ...कैसे आये मन में भाव ...
किलो भर बधाई दें , ..टिप्प्न्नी एक पाव

अखबारों में हिंदी का मालिक भगवान् है...
नीचे वालों की हरकत से पाठक परेशान है ..

भाटिया जी को मातृशोक हुआ , दुःख बड़ा है भारी,
मुझे भी याद आ गयी ,अपनी माता प्यारी

सोसायटी को नहीं है दिक्कत ,,हाशमी को मिला मकान ,
बात से कैसे बनती है बतंगड़ ..आप लीजिये जान

आलसी के चिट्ठे पर बाऊ कथा है जारी ..
गिरिजेश जी की शैली , साहित्य जगत पर भारी

शुकल जी ने चर्चा कर दी, कहते हैं जैसी तैसी .
हमसे पूछिए तो हमें चाहिए रोज चर्चा ऐसी

नीतिश कुमार भी कट्टा निकले , नहीं तोप का गोला ,
ये तो उसका सच है भाई, मैंने कुछ नहीं बोला ...

राखी सावंत की पंचवर्षीय योजना का यहाँ पढिये संवाद ,
हाय राखी तूने कर दिया , किस किस को बर्बाद

पूछ रहे हैं मोहन जी मन से , अंधा प्यार है या इंसान,
हम तो दोनों श्रेणी में आ गए, क्या उत्तर दें श्रीमान

मुन्ना भाई, पिक्चर नहीं जी. इस पोस्ट का मजा लीजिये..
अरे हुजूर कभी कभी तो आप भी हँसा कीजिये

इसको पढिये , ये मत सोचिये , सिर्फ दो हजार का किस्सा है ,
आज न जाने कितने लोगों के यही जीवन का हिस्सा है

आज अदा ने लिखा कैसी सौलिड पोस्ट रे बाप,
क्या भाषा , क्या शैली , खुद देखिये आप....

सुना है किसान भी ब्लॉग लिखने लगे हैं,
अजी लिखने क्या , वे तो छपने लगे हैं

पंद्रह अगस्त के मौके पर बेरोजगार ने एक अनोखी पोस्ट कर दी पेश,
गुस्से में कहते हैं ..ये हाल रहा तो , इक दिन भाड़ में जाएगा देश




अच्छा जी अब ख़त्म करें बहुत हुई अब रात ....
इतना वादा करते हैं , अब रोज रहेंगे साथ ......

शनिवार, 8 अगस्त 2009

चलो जी ,ये हफ्ता भी हो गया ख़तम ,,चिट्ठी चर्चा लेकर फिर से आ गए हम.

मेरा हमेशा ही मानना है कि..किसी भी बात को देखने के दो नजरिये होते हैं..एक सकारात्मक और दूसरा नकारात्मक...ऐसा हो सकता है कि हमेशा ही ऐसा न होता हो..मगर अधिकांशतः तो होता ही है..और कुछ लोगों को न जाने क्यूँ ..सिर्फ नकारात्मक नज़रिया ही पसंद है..जब देखो तब एक ही रवैय्या..हो सकता है कि इस बार सामने वाला कुछ और ही कहना चाहता हो..या कि आप पहले से ही मान के चलते हैं कि ..नहीं जी ये तो वही बात है ..जैसा हम सोच रहे हैं..और एक पल को यदि मान भी लिया जाए कि सचमुच ही गलत है...तो उसके विरोध के भी कई रास्ते हैं...हर वक्त हाथों में पत्थर लेकर बैठे रहना..कहाँ की इंसानियत है...मुझे लगता है कभी कभी ..मेरे लिए तो अक्सर ही फूलों से भी बात बन जाया करती है...और पत्थर भी फेंकना हो तो रेशम में लपेट लें ...देखिये कितना गहरा असर होता है...न जाने किस बात से प्रेरित होकर ये सब कह गया.

आप तो चिट्ठीचार्चा का मजा लीजिये

ब्लॉग बुखार नापने को इक नया थर्मामीटर आया,
इस अद्भुत ब्लॉग से,पाबला जी ने , फिर से लोहा मनवाया ...

सायकल चलानी की प्रथा बेशक कम हो रही आज,
बाल संसार में खुल गया सायकल का सब राज

स्त्री विमर्श में आज की बागी लड़कियों की दास्तान..
नहीं पढ़ा , तो क्या पढा....आपने श्रीमान...

ना नेकी बची , न बचा है कुँआ, दोनों हुए ख़तम,
विवेक भाई की पोस्ट से सम्मझ गए जी हम..

पंद्रह अगस्त नजदीक है, मुर्गियों का गणतंत्र देखिये,
आप भी ऐसे ही साईन बोर्ड लगा कर अपना माल बेचिए

बुलडोज़र पहुंचा घर गिराने महिला पत्रकार का,
नया तमाशा देखिये बहन जी की सरकार का

ताऊ की पहेली ने फिर सबको है घुमाया,
और उनकी रामप्यारी ने बस में है बैठाया,
दो दो बार हिंट दिए कोई काम न आया,
मैंने खुद कई बार गूगल बाबा को दौडाया

अदा की अदाकारी का फिर देखिये चमत्कार,
मुहावरों के प्रयोग से कर दी अद्भुत पोस्ट तैयार

भागिए जल्दी जल्दी , स्वाइन फ्लू है आया...
बचने-फंसने पर क्या खूब कार्टून है बनाया

आप भी अपने बीच के इन ब्लॉगर को पहचानिये,
अजी कैश इनाम की घोषणा है ,ये भी तो जानिए,,

तीसरा खम्भा पर छपा आज एक अनोखा ही विवाद है
दहेज़ लेना ही नहीं , दहेज़ देना भी अपराध है ..

वर्मा जी ने फिर लेखनी से किये हैं तीखे वार ..
कहते हैं ,उम्मीद से भी आधे हुए हैं बलात्कार ,

शुकल जी ने आज इक टुईयाँ सी चर्चा दी है बांच
झूम झूम के चर्चा में शकीरा रही है नाच

खेलगढ़ ने पोस्टों की तीसरी सेंचुरी है जमाई.
देर किस बात की दे दीजिये बधाई

आप खुद ही जानिए असली अर्थ हाथ मिलाने,
ये अच्छा मौका है, पढने और टिपियाने का

राम जी ने इस पोस्ट में पंक्तियाँ उकेरी ख़ास हैं..
जितनी बार पढिये , मिटती नहीं ये प्यास है

इन्होने अपनी डायरी के पन्नो से इक पोस्ट निकाली प्यारी,
वो तब कहते थे , हम अब , आ गयी देखो बरसात की बारी

सफ़र ठीक कटेगा पक्का , यदि साथी हो सवारी,
पत्नी के भरोसे ही , चलती रहे ये गाडी

कह रही हैं डाक्टर पूजा जी, ढल गयी इक और शाम,
आप भी पढ़ लीजिये ,दिल को मिले आराम


ये साजिश है कुछ और है ,,आप खुद कीजिये तय ,
जाइए जल्दी दूर कीजिये , इनके मन का भय ...

पोस्ट को पढिये , चिंतन -मनन को आँखें कीजिये बंद,
निर्मल जी की लेखनी का खूब लीजिये आनंद

डंके की चोट पर गूगल का इन्होने कर दिया है त्याग .
चिंगारी है सुलग उठी, अभी और फैलेगी आग..

अच्छा जी राम राम..सन्डे की सनसनाती चर्चा के साथ कल मिलते हैं...

मंगलवार, 4 अगस्त 2009

मंगल भवन अमंगल हारी , हे ब्लॉगर चर्चा हुई तिहारी

कुछ मौसम हमारे यहाँ कभी नहीं बदले ..मसलन बरसात ..मेरी स्मृति में आज तक कोई ऐसी बरसात नहीं गयी जब देश के किसी कोने में..... कहीं न कहीं बाढ़ ना आयी हो....अब ये मौसम की दृढ़ता है ..या हम मनुष्यों की धृष्ट ता ...ये तो स्वयं इश्वर ही जाने..बरसात का जिक्र नहीं बदलने वाले मौसमों में इसलिए किया है क्यूंकि सर्दी और गर्मी को तो अब बहुत बदलते हुए देख रहा हूँ..खासकर जब से दिवाली में गर्मी के कारण शर्ट भी भारी लग रही थी..खैर..जिस तरह कुछ मौसम कभी नहीं बदले ..उसी तरह ..अपने देश में कुछ त्य्हारों का स्वरुप भी कभी नहीं बदला ..और मुझे यकीन है की ...ये बदलेगा भी नहीं..जैसे की रक्षाबंधन ..आप सबको ..इस पवित्र दिवस पर ..इस अटूट बंधन की बहुत बहुत शुभकामना...मुझे इस दिन अपनी स्वर्गवासी दीदी की बहुत याद आती है ..और अब भी इस दिन ..पूरे दिन में कभी न कभी ..रो तो पड़ता ही हूँ...कल मेरी बिटिया भी अपने भैया को राखी बांधेगी जो उसकी पहली राखी होगी ..एक बार फिर आप सबको बधाई और शुभकामना ..अब चर्चा करते हैं ..


चिट्ठाचर्चा आज विवेक जी के रंगी हुई रंग ,
क्या कीजिये यदि विवाह के दिन टूट जाए पलंग

स्वयंवर के तुंरत बाद , ब्लॉगजगत में राखी का पहला साक्षात्कार
शेफाली जी ने लिया है ,,ख़ास आपके लिए ही सरकार...

जाने कौन कौन से दर्द समेटे फुर्सत से इत्ता लिखा होगा,
आप भी देख लीजिये , जिसने छेड़ा होगा, वो पिटा होगा

पांडे जी आज खुलमखुल्ला , अपना एड्रेस कर दिए पोस्ट ,
आप में है हिम्मत , तो जरा उनके घर पहुँच दिखाओ दोस्त


हंसते हंसते एक हॉकर ने सच्ची बात है बतलाई,
अविनाश भाई के शब्दों की देख ली गहराई

पिता हुए अवकाशप्राप्त , पुत्र ने दिया सम्मान ,
पिता पुत्र प्रेम से सजी ये पोस्ट पढिये श्रीमान

किशोर दा को याद करती अनोखी ये पोस्ट है आयी
उनको समर्पित करके राजीव जी ने है लगाई

अलबेला जी की अलबेला अंदाज सब होते हैं हैरान ,
इस पोस्ट में देखिये , कैसे खुदा , बन सकता इंसान

शास्त्री जी ने हायकू लिखा ,क्या सुर है क्या लय,
हायकू है , क्षणिकाएं, या त्रिवेणी , सब कर रहे हैं तय

राखी के स्वयंवर का अगला एपिसोड है दिखाया,
इसी बहाने इस मुद्दे का तगडा बैंड बजाया


ये नन्ही सी गुडिया देखिये कहाँ घूम कर आयी,
अपनी यात्रा की , लाविज़ा ने सुन्दर पोस्ट लगाई.

शादी के लिए जरूरी नहीं है कुण्डली को मिलाना ,
बस आपको आता हो , सबके लिए खाना पकाना

उनकी ये लेखनी दिल को लुभाने लगी है ,
वो कहते हैं गजलें थपकी दे सुलाने लगी हैं

संजय जी पूछ रहे ..टैक्स काहे हो भरते ,
पढ़ कर यही लगा ,,सब हैं गलती करते

ये कह रहे हैं ब्लॉग्गिंग से लाखों -करोडों कमाइए ,
जो कमा रहे हैं , हमारा हिस्सा भी दिलवाइये

दस पंक्तियों में अद्भुत रिश्तों की परिभाषा ,
पसंद ये पोस्ट आयेगी , हमको है ये आशा


जानिए श्यामल जी क्या है आकांक्षा ,
पढिये-टिपिये , आपसे यही है अपेक्षा


इनकी गुजारिश है इनकी पीठ को दिवार ना बनाया जाए
इसलिए जो भी लिखना है, पोस्ट पर ही टिपियाया जाये


इरफान जी आज फिर ये गजब का कार्टून बनाया,
छोडा बैंड जनरल ने , तबला है बजाया ..

जो इस पोस्ट की चर्चा दोबारा न की तो ये चर्चा रहेगी अधूरी ,
विवेक भाई ने सुबह वाली चर्चा अब कर दी है पूरी

चलिए आज के लिए इतना ही ..कल अपनी बहनो और अपने भाइयों के साथ प्यार/स्नेह/ बांटिये ......

रविवार, 2 अगस्त 2009

दोस्ती डे ,पर खुश रहे सभी दोस्त : चर्चा वाली चिट्ठी फिर कर दी है पोस्ट



इस ब्लॉग पर चिट्ठों की चर्चा ..मैंने अपने अंदाज में ..सिर्फ एक प्रयोग के तौर पर शुरू किया था ....साथ ही ये भी सोचा था की ...ये एक विकल्प के रूप में ..नियमित ब्लॉग चिट्ठाचर्चा का साथ भी निभाएगा...आप सबका प्यार और समर्थन पाकर लगा ...चलो ...प्रयास ठीक दिशा में जा रहा है..मगर फिर कुछ मित्रों ने कहा ..आप समय जाया कर रहे हैं..और शायद इससे मेरी दूसरी दिशा और लेखनी प्रभावित हो रही है..और ये भी की ये महज तुकबंदी जैसा है...मैं थोडा असमंजस में पड़ गया...क्यूंकि मैं मन ही मन इस प्रयोग के साथ और भी कई प्रयोग करने की योजना पर कम शुरू कर रहा था ,...सो रुक कर सोचने पर विवश हो गया ...मगर फिर लगा ..क्या करूँ ....जो भी जैसा भी आता होगा वही तो कर पाउँगा न ..सो लीजिये फिर से आ रहा हूँ ...चिट्ठियों की चर्चा लेकर.....कुछ नयी तब्दीलियों के साथ


देखें आज कौन का का चेपा है

कुछ कवितायें हो जाएँ

कुत्तों पर रिसर्च करने में वर्मा जी ने कित्ती मेहनत है लगाई
हाय आज तो अपने कुत्ते न होने का अफ़सोस हो गया भाई

शेफाली ने टाईप टाईप की गैसों का कर दिया बखान ,
कईयों की हवा निकाल दी देखिये श्रीमान ..

इतने कम शब्दों में इतना कुछ बहुत कह नहीं पाते,
वो कहते हैं, तूफ़ान कभी मात नहीं खाते

वो कहते हैं किश्तों में भी सुख मिल जाता है,
बस पता नहीं इन्स्तौल्मेंट कितना आता है


अब कुछ और पोस्टों पर नज़र डालते हैं

जितेन जी अपनी रूटीन का वर्णन करते हैं,
आईये उनकी ये पोस्ट पढ़ते हैं ...

अमीर धरती के गरीब लोगों का मंदी से बुरा हाल है,
आप खुद ही पढ़ के देखिये पोस्ट ये कमाल है ..

ब्लॉगजगत का ये छोटा सा ब्लॉगर है बड़ा ख़ास
देखिये आज किसको कर रहा है ,आज baul ये पास

संविधान में क्या क्या लिखा है , एक बार पढ़ के देखिये,
किताबों में जो लिखा है , उससे आगे बढ़ के देखिये

आलसी के चिट्ठे में एक लंठ केकड़े ने एंट्री मारी है,
पूरे आलस से पढिये , कथा अभी भी जारी है

ब्लॉग , ब्लॉग है या साहित्य , हम इस बात पर लड़ रहे हैं,
अखबार वाले पोस्टें चुरा कर छाप रहे हैं, लोग वही साहित्य पढ़ रहे हैं

अनिल भाई कहते हैं ,,,ख्वाब कभी मरा नहीं करते ,
पछताते हैं जो ऐसी पोस्टें , पढ़ा नहीं करते ..

कहती हैं पूजा ,यादों का इन्तजार और सही ,
लिखने का ,कहने का , अब भी है उनका अंदाज वही

इस दोस्ती दिवस पर अविनाश जी ने कुएस्चन मार्क है लगाया,
आज इस मौके पर , एक नए एंगल से उनका ये विचार है आया

उनके लिए ख़ास तौर पर निशांत जी लाये ये आज हैं,
जो अपनी पोस्टों के चोरी होने से बहुते नाराज हैं

दोस्ती दिवस पर जिनकी भी कुछ और भी पढने की है आकांक्षा ,
इनको जाकर पढ़ लीजिये , इन्होने लिखा है बहुत ही अच्छा

ताऊ जी की पहेली में कौन भाग नहीं है लेता ,
देखिये नंबर तैंतीस का कौन बना विजेता..



अब मिलिए कुछ नए चिट्ठों से

ब्लॉग जगत में देखिये ये नया दृष्टिकोण है आया,
आप खुद ही पढिये, है इन्होने क्या पढ़वाया

पढ़ते पढ़ते ये पुरानी डायरी हाथ आई है
मेरे पास नहीं ब्लॉग जगत के साथ आई है

ब्लोग्ग्गिंग में इन्होने भी अपने धर दिए हैं पैर
इनके साथ आप भी कीजिये प्रेमांचल की सैर

और अब चलते चले एक सूचना

हिंदी साहित्य मंच ने फिर एक प्रतियोगिता का आयोजन किया है ,
अपनी अपनी रचना भेजने का सबको आमंत्रण दिया है ..

तो बस बंधु ..इस दोस्ती दिवस पर इतना ही इश्वर करे .इस दोस्ती जहाज दिवस (अरे फ्रेंड शिप डे) पर यही दुआ है की आपकी कश्ती और जहाज दोनों चलते रहे ..
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers